सूरत : शहर में 90 लाख रुपये की चोरी मामले में पूछताछ के बाद कारीगर ने लगायी फांसी

मृतक की फाइल फोटो

परिवार ने न्याय की मांग के साथ शव लेने से किया इंकार

परिजनों का आरोप है कि यह आत्महत्या नहीं बल्कि हत्या है, फोरेंसिक पीएम की दिशा में आगे बढ़ी पुलिस
शहर के न्यू सिटीलाइट इलाके में 90 लाख रुपये की चोरी के मामले में पुलिस द्वारा पूछताछ के बाद छोड़ा गया एक कारीगर उसी फ्लैट में फांली लगे हालत में  मिला। जिससे परिवार के लोग आरोप लगा रहे हैं कि अजीत को चोरी के आरोप में मारकर लटका दिया गया है। इतना ही नहीं ऐसा आरोप कंपनी के मालिक पर लगने से पुलिस दौड़ती हो गई। पुलिस ने फॉरेंसिक पीएम की कार्रवाई की जांच शुरू कर दी है। हालांकि, परिवार ने कहा कि जब तक न्याय नहीं मिल जाता तब तक वे शव को अपने कब्जे में नहीं लेंगे।पुलिस ने पोस्टमार्टम कक्ष के बाहर सुरक्षा व्यवस्था की थी।
मृतक के चचेरेभाई रत्नेश कुमार बिंद ने बताया कि अजीत बिंद उत्तर प्रदेश का रहने वाला है। वह तीन भाइयों में दूसरे नंबर का है। वेस्टर्न कंस्ट्रक्शन में फर्नीचर बनाने का काम करता था। दो-तीन दिन पहले कंपनी के कार्यालय से 90 लाख रुपये की नकदी चोरी हो गई थी। जांच के दौरान पुलिस 6 से अधिक कारीगरों को पूछताछ के लिए ले गई थी। अजीत का जवाब लेकर छोड़ दिया था। चोरी के 24 घंटे बाद दोपहर में अजीत उसी जगह फांली लगी हालत में मिला। हालांकि देर शाम जब कंपनी ने परिवार को इसकी सूचना दी तो परिजन में शोक फैल गई।  पुलिस ने अजीत के शव की जांच की और पोस्टमार्टम के लिए सिविल पोस्टमॉर्टम रूम में ले गई।
 पोस्टमार्टम रूम के बाहर परिजनों ने अजीत की हत्या का शक जताया। मौके पर पहुंची पुलिस से परिजनों ने कहा कि न्याय नहीं हुआ तो शव को अंतिम संस्कार के लिए नहीं ले जाया जाएगा। परिजनों की मांग के बाद पुलिस ने मौत के सही कारणों का पता लगाने के लिए फोरेंसिक पोस्टमॉर्टम करने का फैसला किया। आगे की जांच शुरू कर दी है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें