सूरत :डुमस नशामुक्ति केंद्र में भर्ती अंकलेश्वर के बैंक मैनेजर की आंख फोड़ डाली

(Photo: IANS)

दिल्ली की बहन का मैनेजर से बात तक नहीं करवाने का आरोप

डुमस के भाटिया फार्म स्थित एक नशामुक्ति केंद्र में इलाज के लिए भर्ती अंकलेश्वर के बैंक मैनेजर द्वारा पहले दिन उसकी बायीं आंख पर चार जनों ने घूंसा मारने से दिखायी देना बंद हो जाने से मामला डुमस पुलिस थाने पहुंचा। 
दिल्ली के पांडवनगर निवासी और नर्सरी स्कूल चलाने वाली कंचनकुमारी शंभूचरण सिंह का बड़ा भाई राहुल कुमारी शंभूचरण सिंह (उम्र 34) अंकलेश्वर बैंक में मैनेजर के रूप में काम करते हैं। उन्हें नशे की लत लगने से पिछले फरवरी में डुमस के भाटिया फार्म में इलाज के लिए भर्ती कराया गया था। कंचनकुमारी ने अपने भाई से बात करने के लिए कई बार फोन किया था। लेकिन नशामुक्ति केंद्र के कर्मचारी ने बात नहीं नहीं करवायी। इसलिए मार्च के महीने में कंचन अपनी मां के साथ सूरत आई लेकिन उन्हें सात घंटे तक नशामुक्ति सेंटर से बाहर बैठाया गया और उनसे मिलने नहीं दिया गया।
मई की शुरुआत में उन्होंने राहुल से मुश्किल से एक बार फोन पर बात की थी। जिससे तंग आकर कंचन ने सभी फीस भरकर राहुल के लिए फ्लाइट की टिकट भेजकर दिल्ली बुला लिया। दिल्ली पहुंचने पर राहुल नेे आरोप लगाया कि उपचार के लिए भर्ती होने के पहले ही दिन सोहल नामक व्यक्ति ने पकडक़र रखा और सांई नामक व्यक्ति ने आंख पर घूंसा  मारने से दिखना बंद हो गया था। वहीं अन्य दो जनों ने मारपीट की और कहा कि अभी एक आंख गई है, आगे जाकर दूसरी भी फोड़ डालेंगे। जिसके कारण कंचनकुमारी ने सोहेल और सांई सहित चार जनों के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें