बेटे ने रात के अंधेरे में पिता को घर से बाहर निकाल दिया, सूरत पुलिस ने यूं मदद की

देर रात घर से निकाल दिया था पुत्र ने बाहर, पिता ने पुलिस कंट्रोल रूम में फोन करके मांगी मदद

इस कोरोना के आपातकालीन समय में रिश्तों की हकीकत सामने आई है। ऐसे में सूरत से सामने आए एक मामले ने फिर रिश्तों की पोल खोलकर रख दी। इस कोरोना को देखते हुए नाईट कर्फ्यू जैसे नियम लग गए है, अधिकांश काम प्रभावित हुए है और बहुत सी जिंदगियों में बदलाव आए है। ऐसे में एक पुत्र ने अपने 68 वर्षीय पिता को रात के समय घर से निकाल दिया। हालांकि इसके बाद सूरत पुलिस सामने आई और पुत्र को समझाया। पुलिस के हस्तक्षेप के बाद पुत्र ने पिता को वापस घर में आने दिया। 10 दिन पहले हुए इस घटना में पुलिस कमिश्नर ने भी विशेष ध्यान दिया है और वो बुजुर्ग पिता से उनका हालचाल ले रहे है।
जानकारी के अनुसार, लगभग दस दिन पहले पुलिस कंट्रोल रूम में रात के समय एक कॉल आया। इस कॉल को एक 68 साल के बुजुर्ग ने किया था। फोन पर बुजुर्ग ने रोते रोते अपनी व्यथा पुलिस को सुनाई कि उनका बेटा कई दिनों से उनसे अलग रहने के लिए लड़ाई कर रहा था। आज अचानक देर रात बेटे ने उन्हें घर से निकाल दिया। ऐसे में इस कर्फ्यू के समय कही भी जाना उनके लिए किसी पहाड़ जैसा था। कंट्रोल रूम में कॉल आते ही सबसे नजदीक के वैन को सूचित किया गया। जानकारी मिलते ही पीसीआर इन-चार्ज सत्ताभाई वहां पहुंचे और बेटे को समझाया।
पुलिस ने बेटे की लगभग एक घंटे तक काउंसलिंग की और फिर पिता को वापस अपने घर में प्रवेश दिला दिया। इस बात की जानकारी कमिश्नर को होने पर उन्होंने सत्ताभाई को नगद इनाम दिया और बुजुर्ग का नंबर लेकर उनसे बात की और उन्हें सब कुछ ठीक हो जाने का आश्वासन दिया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें