देश को सस्ता इन्टरनेट देने वाले मुकेश अम्बानी ने दी युवाओं को बड़ी सीख, आज के ज़माने में 4जी या 5जी नहीं बल्कि मां-बाप सबसे बड़े 'जी'

(Photo Credit : IANS)

पंडित दीनदयाल एनर्जी यूनिवर्सिटी के 10वें दीक्षांत समारोह में मुकेश अंबानी ने छात्रों को ये बात

देश को सस्ते डेटा के युग से परिचित कराने वाले मुकेश अंबानी ने तकनीक की गति पर युवाओं की बढ़ती निर्भरता और इसके प्रति बढ़ते आकर्षण के बीच एक बड़ा सबक दिया है। उन्होंने कहा कि समाज में युवाओं के लिए 4जी या 5जी से ज्यादा उनके माता-पिता महत्वपूर्ण हैं। भागदौड़ भरी जिंदगी में परिवार को भूलने के बढ़ते चलन के बीच अंबानी ने पंडित दीनदयाल एनर्जी यूनिवर्सिटी के 10वें दीक्षांत समारोह में छात्रों को ये बात समझाई है। 

अपने माँ-बाप के त्याग को न भूले छात्र


रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष के अनुसार, हालांकि दीक्षांत समारोह छात्रों का दिन है, लेकिन छात्रों को भूलना नहीं चाहिए कि आपके माता-पिता इस दिन का इंतजार कर रहे हैं। यह उनके जीवन का सपना है। इसलिए बच्चों को अपने माता-पिता का परित्याग नहीं भूलना चाहिए। मुकेश अंबानी पंडित दीनदयाल विश्वविद्यालय के शासी निकाय के अध्यक्ष हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान में युवा 5जी को लेकर काफी उत्साहित हैं लेकिन मां-बाप से बड़ा कोई 'जी' नहीं है।

भारत की अर्थव्यवस्था पर कही ये बात


आपको बता दें कि छात्रों को संबोधित करते हुए मुकेश अंबानी ने कहा कि भारत की अर्थव्यवस्था 2047 तक 13 गुना बढ़कर 40,000 अरब डॉलर हो सकती है। भारत वर्तमान में दुनिया की पांचवीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है और वर्तमान में केवल अमेरिका, चीन, जापान और जर्मनी से पीछे है। उन्होंने कहा कि अमृत काल के दौरान देश के आर्थिक विकास और अवसरों में अभूतपूर्व बदलाव देखने को मिलेगा। स्वच्छ ऊर्जा, जैव-ऊर्जा और डिजिटल क्रांति जैसी तीन महत्वपूर्ण क्रांतियां आने वाले दशकों में भारत के आर्थिक विकास की अध्यक्षता करेंगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें