गुजरात में पहली बार कक्षा 10 बोर्ड की परीक्षा में मास प्रमोशन, क्या यह सरकार का सही निर्णय है?

प्रतिकात्मक तस्वीर (File Photo : IANS)

सरकार के निर्णय पर जानकारों में मिली-जुली प्रति‌क्रिया, आप क्या कहते हैं?

कोरोना महामारी का सर्वाधिक दुष्प्रभाव शिक्षा जगत पर पड़ा है। पिछले डेढ़-दो वर्ष से बच्चे स्कूल नहीं गये हैं। ऑनलाइन कंप्यूटर और मोबाइल पर पढ़ाई कर रहे हैं और अगली कक्षा में आगे बढ़ गये हैं। सामान्य कक्षाओं तक तो ठीक है, लेकिन अब कक्षा 10 जैसे विद्यार्थी के जीवन के महत्वपूर्ण शैक्षिकण पड़ाव भी कोरोना की भेंट चढ़ रहे हैं। गुजरात सरकार ने गुरुवार को एक महत्वपूर्ण निर्णय लेते हुए कक्षा 10 की गुजरात माध्यमिक शिक्षा बोर्ड की परीक्षा रद्द करते हुए सभी रेग्युलर विद्यार्थियों को मास प्रमोशन देने का निर्णय किया है। शिक्षा जगत में सरकार के इस निर्णय पर मिली-जुली प्रतिक्रिया मिली है। कई सरकार के फैसले का स्वागत कर रहे हैं और कह रहे हैं कि सरकार के पास इसके अलावा और कोई चारा नहीं बचा था। वहीं सरकार के फैसले की आलोचना करने वालों का मानना है कि इस निर्णय से आने वाले समय में कई दिक्कतें पेश आ सकतही हैं। बता दें कि कक्षा 12 की सामान्य और विज्ञान संकाय की परीक्षा के बारे में 15 मई के बाद निर्णय लिया जायेगा। वैसे बोर्ड के इतिहास में यह पहली बार हुआ है जब इस बार कक्षा 10 की परीक्षा रद्द करके बच्चों को मास प्रमोशन दिया गया हो। सरकार के इस निर्णय से कक्षा 10 के 8.37 लाख रेग्युलर बच्चों को अब परीक्षा नहीं देनी है और वे कक्षा 11 में चढ़ा दिये जायेंगे।
(Photo : IANS)
पाठक कमेंट करके अपनी राय अवश्य दें। बताएं कि क्या कक्षा 10 जैसे महत्वपूर्ण शैक्षणिक पड़ाव में बच्चों को मास प्रमोशन देना उचित है? इस निर्णय के बाद बच्चों की कक्षा दसवीं की मार्क्सशीट कैसे बनेगी क्योंकि भविष्य में कक्षा 10 की मार्क्सशीट का करियर गठन में महत्वपूर्ण योगदान होता है। अब चुंकि सभी को मास प्रमोशन मिल जायेगा, तो कक्षा 11 सायन्स, डिप्लोमा, आईटीआई में प्रवेश प्रक्रिया क्या रहेगी? निर्धारित संख्या से अधिक बच्चों के आगे बढ़ जाने से इन वर्गों में अधिक दबाव बढ़ने से संभव है कि सामान्य से अधिक बच्चों को दाखिला देना पड़े। जहां पहले एक कक्षा में 60 बच्चे हुआ करते थे, अब 90 बच्चों का समावेश करना पड़े। इतना ही नहीं डिप्लोमा, आईटीआई में मैरिट लिस्ट कैसे बनेगी? खैर, जब सरकार ने निर्णय लिया है तो इन सब बातों के बारे में सोचा तो होगा ही।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें