मांडवी : लकड़ी चोरों का आतंक, वन विभाग की टीम पर हुई पत्थरबाजी

वन विभाग की टीम ने अपने बचाव के लिए की हवाई फायरिंग

सूरत जिले के मांडवी के जेतपुर राउंड में वन विभाग की टीम पर हमले की घटना ने विवाद खड़ा कर दिया है। जांच के दौरान वन विभाग की टीम ने लकड़हारा गिरोह के खिलाफ कार्रवाई करते हुए जलाऊ लकड़ी, टेंपो समेत अन्य सामान जब्त किया। जब्त मुदमाल को छुड़ाने के लिए लकड़हारे गिरोह ने हमला कर दिया। करीब 15 लोगों के खिलाफ कार्रवाई की गई है।
जलाऊ लकड़ी की कथित चोरी की जांच के लिए वन विभाग की एक टीम मांडवी के जेतपुर पंथ में गई थी। इस दौरान करीब 15 व्यक्ति अवैध रूप से जलाऊ लकड़ी काटकर टेंपो में भर रहे थे। जिसके बाद वन विभाग की टीम ने आरोपी से पूछताछ की और जलाऊ लकड़ी, टेंपो और अन्य सामान जब्त किया। इसके बाद आक्रोशित आरोपितों ने वन विभाग के कर्मचारियों पर पथराव कर दिया। हमलावरों ने जब्त संपत्ति को छुड़ाने के लिए हमला किया। तो वन विभाग ने भी बचने के लिए हवा में फायरिंग की। इस प्रकार लकड़ी चोर मारे गए। मांडवी के जेतपुर दौर की घटना ने विवाद खड़ा कर दिया। मांडवी थाने में मामले की सूचना देने के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
इससे पहले हाल ही में जूनागढ़ के विसावदर तालुका के हसनपुर गांव में आरएफओ और वन विभाग के कर्मचारियों पर हमला हुआ था। वन विभाग के जर्जर क्वार्टरों की नीलामी के दौरान एक व्यक्ति पर हमला किया गया। नीलामी के दौरान हसनपुर निवासी हरेश वल्लभदास गोंडालिया ने आरएफओ और कर्मचारियों से यह कहकर हाथापाई कर दी कि उन्होंने हमें नीलामी के बारे में सूचित नहीं किया था और नियमों और विनियमों के अनुसार उचित कार्रवाई नहीं की थी। जिसमें आरएफओ हाथ की अंगुली में चोटिल हो गया। इस संबंध में विसावदर पुलिस में भी ड्यूटी में बाधा डालने की शिकायत दर्ज कराई गई थी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें