सूरत सिविल अस्पताल में सिमित ऑक्सिजन और वेन्टिलेटर के चलते मरीजों के लिए मुख्य गेट बंद

सूरत सिविल अस्पताल में वेन्टिलेटर तथा ऑक्सिजन की कमी के कारण मुख्य गेट बंद कर सिक्युरीटी गार्ड को तैनात

सूरत के सविल अस्पताल में सिमित ऑक्सिजन और वेन्टिलेटर की कमी के कारण कोरोना के नए मरीजों को भर्ती करना बंद कर दिया, मुख्य गेट पर सिक्युरीटी तैनात करके मात्र ट्रोमा सेन्टर में इमरजेन्सी मरीजों को भर्ती किया जा रहा है।

ट्रोमा सेन्टर इमरजेन्सी मरीजों के लिए कार्यरत, अन्य चिकित्सा तथा ओपीडी बंद 
सूरत शहर में कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के कारण निजि अस्पतालों में बेड मिलना मुश्किल होने से मरीज सरकारी सिविल अस्पताल की ओर आ रहे है मगर सिविल में वेन्टिलेटर तथा ऑक्सिजन की कमी के कारण मुख्य गेट को बंद कर सिक्युरीटी गार्ड को तैनात कर दिया इमरजेन्सी मरीजों के लिए अन्य गेट चालु है। दक्षिण गुजरात के सबसे बडे सरकारी अस्पताल कि‌ स्थिति देखकर कोरोना के मरीजों तथा उनके स्वजनों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड रहा है। 
सूरत सिविल अस्पताल में पिछले दो महिनो से लगातार कोरोना मरीजों की संख्या में वृध्दि हो रही है। सिविल अस्पताल में पुरानी बिल्डींग तथा स्टेमसेल अस्पताल में शुरू किए गए कोविड अस्पताल की केपीसीटी पुर्ण हो जाने पर नवनिर्मित किडनी अस्पताल को भी कोविड अस्पताल बना दिया है। तीनो बिल्डींगों में 1100 से अधिक कोरोना मरीज भर्ती है। अस्पताल में बेड तो है मगर स्टाफ की कमी, वेन्टिलेटर, ऑक्जिन की कमी के कारण मरीजों को चिकित्सा प्रदान करने में काफी मुश्किलों का सामना करना पड रहा है। जो स्टाफ है वह लगातर अगल अगल शिफ्ट में काम कर रहे है। 
सोमवार सूबह अचानक सिविल अस्पताल के मुख्य गेट को बंद करके सिक्युरीटी गार्ड तैनात कर दिया है। गेट पर बोर्ड लगा दिया है कि वर्तमान कोरोना महामारी की परिस्थिति के दौरान सिविल अस्पताल में अन्य बिमारी की ओपीडी चिकित्सा देना योग्य नही होने से मात्र इमरजन्सी मरीजों के लिए ट्रोमा सेन्टर कार्यरत है। ट्रोमा सेन्टर में भी सिविल अस्पताल के आरएमओ की जांच के बाद ही मरीजों को भर्ती किया जा रहा है। 
सिविल अस्पताल के एडिशनल सुप्रिटेन्डेट डॉ. धारित्री परमार ने कहा की सूरत सिविल अस्पताल में कोरोना मरीजों को चिकित्सा में प्राथमिकता दी जा रही है। पिछले दो दिनों से ऑक्सिजन की सिमित आपूर्ति और वेन्टिलेटर की कमी से नए मरीजों को चिकित्सा संभव नही हो पा रही। इस लिए सिविल में जल्द से जल्द वेन्टिलेटर और ऑक्सिजन आपूर्ति की व्यवस्था की जा रही है। तब तक नए मरीजों को सिविल में भर्ती करने पर ब्रेक लगाई है वेन्टिलेटर और ऑक्सिजन की सुविधा होने के साथ नए मरीजों को भी भर्ती किया जायेगा। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें