जूनागढ़ : ब्रेनडेड आदमी के अंग को दान कराने के लिए तैयार हुआ ग्रीन कॉरिडोर

वनथाली तालुका के रवनी गांव के मगनभाई गजेरा के ब्रेनडेड होने के बाद अहमदाबाद में तीन लोगों को मिलेगा नया जीवनदान

इन दिनों सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को अंगदान के लिए जागरूक किया जा रहा है। लोग ब्रेनडेड लोगों का अंगदान कर रहे है। अंगदान करने के मामले में सूरत सबसे आगे हैं।अहमदाबाद में भी अब तक 62 अंगदान किए जा चुके हैं लेकिन इस बीच जूनागढ़ जिले के इतिहास में पहली बार अंगदान किया गया है। जूनागढ़ में पहली बार किसी ब्रेनडेड व्यक्ति के शरीर के अंग दान किए जा रहे हैं। शरीर के अंगों को ले जाने के लिए जूनागढ़ से केशोद तक ग्रीन कॉरिडोर तैयार किया गया।
जानकारी के अनुसार वनथाली तालुका के रवनी गांव के मगनभाई गजेरा नाम के एक मरीज की सात दिन पहले मस्तिष्क की नस फटने से मौत हो गई थी और उसके परिवार के सदस्यों ने अंग दान करने का फैसला किया है। इसके लिए उनकी दो किडनी और एक लीवर का इस्तेमाल अहमदाबाद के मरीजों के लिए किया जाएगा और अहमदाबाद अस्पताल के डॉक्टर अंग लेने जूनागढ़ पहुंच गए हैं। उनकी दो किडनी और एक लीवर के ऑपरेशन की सर्जरी होगी और उन्हें जूनागढ़ से केशोद हवाई अड्डे के रास्ते अहमदाबाद ले जाया जाएगा, जो तीन मरीजों को एक नया जीवन देगा।
स्थानीय डॉक्टर आकाश पटोदिया ने मरीज के ब्रेन डेड होने की जानकारी परिजनों को दी और बाद में अंगदान की जानकारी दी। इसलिए परिजन मरीज के अंगदान के लिए तैयार हो गए। पहले उन्हें पांच अंग दान करने थे लेकिन उनके फेफड़े और हृदय की खराब स्थिति के कारण दो किडनी और एक लीवर दान करने का निर्णय लिया गया।अहमदाबाद अस्पताल से ऑपरेशन के लिए संपर्क किया गया और जाइडस अस्पताल के विशेषज्ञ डॉक्टरों की एक टीम जूनागढ़ पहुंची। मगनबाई गजेरा के ब्रेन डेड बॉडी से निकलेगा लीवर और किडनी और शरीर के अंगों को वर्तमान में चल रहे केशोद हवाई अड्डे पर एयर एम्बुलेंस द्वारा अहमदाबाद ले जाया जाएगा। और जरूरतमंद मरीजों का ट्रांसप्लांट होगा। जूनागढ़ नगर निगम द्वारा पुलिस को सूचना दिए जाने के बाद पहली बार जूनागढ़ से केशोद हवाई अड्डे तक ग्रीन कॉरिडोर का निर्माण किया जाएगा। देश के आजाद होने के बाद पहली बार जूनागढ़ से ग्रीन कॉरिडोर बनाया गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें