जामनगर : कोविड अस्पताल के बाहर इलाज की बाट जोहते किशोरी की कार में ही मौत!

(Photo Credit : news18.com)

सांस लेने में हो रही थी दिक्कत, इलाज शुरू हो सके इसके पहले ही हुई मौत

राज्य में कोरोना के केस लगातार बढ़ते जा रहे है। चुनावों के बाद लगातार कोरोना का संक्रमण बढ़ रहा है। हर दिन 11 हजार से भी अधिक केस सामने आने लगे है। ऐसे में राज्य सरकार तो दावा कर रही है की सभी मरीजों के इलाज के लिए सभी तरह की सुविधाएं है, पर आंखो देखी हकीकत कुछ और ही बयान करती है। अस्पताल के बाहर मरीज इलाज के लिए लंबी लाइन लगाकर खड़े है। इसके अलावा श्मशानों में भी मृतदेहों को जलाने के लिए कतार लगाने की नौबत आई है। ऐसे ही एक घटना जामनगर से सामने आई है। जब इलाज लेने के लिए बाहर कार में बैठी एक किशोरी की मौत हो गई थी। 
गुजराती पोर्टल खबरछे की रिपोर्ट के अनुसार जामनगर की सरकारी कोविद अस्पताल के बाहर ही एक किशोरी की मौत हो गई थी। परिवार के सदस्य किशोरी को इलाज के लिए सुबह से लाइन में लगे थे। पर उसका इलाज शुरू हो उसके पहले ही 14 वर्षीय किशोरी की मौत हुई थी। इस दौरान वह अपनी बच्ची के इलाज के लिए रजिस्ट्रेशन भी नहीं करवा पाये थे। यह हादसा हुआ है सौराष्ट्र की सबसे बड़ी और गुजरात की दूसरी सबसे बड़ी सरकारी अस्पताल गुरु गोविंदसिंह अस्पताल में जहां अब कोरोना के मरीजो की भरमार हो चुकी है। 
प्राप्त जानकारी के अनुसार, किशोरी को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी, जिसके चलते परिवार उसे इलाज के लिए लेकर आया था। पर इलाज शुरू हो उसके पहले ही  उसकी मौत हो गई थी। जिसके चलते परिवार के सदस्य काफी आहत और क्रोधित हो कर वहाँ से निकल गए थे। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें