चीकू खाने के सही तरीका जान लोगे तो कई बीमारियों के इलाज में मदद मिल जाएगी!

(Photo Credit : Pixabay.com)

विटामिन ए और विटामिन सी का भंडार चीकू कैंसर जैसी भयानक बीमारियों में भी है उपयोगी

चीकू एक बहुत ही गुणकारी और काफी स्वादिष्ट फल है। गर्मी में वैसे तो चीकू काफी फायदेकारक है। यदि चीकू का इस्तेमाल सही तरह से किए जाए तो इससे कई बीमारियों से मदद मिल सकती है। तो आइये जानते है चीकू के कुछ चमत्कारी गुणों को। 
चीकू में विटामिन ए और विटामिन सी भरपूर मात्रा में होता है। इसके अलावा चीकू में शर्करा का प्रमाण भी 14 प्रतिशत होता है। लोहतत्व और फोस्फरस से भरपूर चीकू स्वाद में मीठा होता है, जिसे खाने से स्वास्थय कि तंदूरस्ती बनी रहती है। 
चीकू आम तौर पर गर्मी और ठंडी में मिलते है। यदि खाना खाने के बाद तुरंत ही चीकू का सेवन किया जाए तो शरीर को काफी फायदे होते है। चीकू खाने से हड्डियां मजबूत होती है। उसमें रहा केल्शियम, आयन और फोस्फरस हड्डियों को मजबूत बनाने के लिए काफी उपयोगी है। 
चीकू में रहे विटामिन ए, आंखो की रोशनी के लिए काफी उपयोगी है। इसका उपयोग करने से आंखो के नंबर दूर किए जा सकते है। कैंसर जैसी बीमारी में भी चीकू का सेवन काफी फायदेकारक है। चीकू में विटामिन ए और बी के साथ एंटीऑक्सीडेंट, फाइबर और दूसरे कई पोषक तत्व आए हुये है। जो फेफड़ों और मुंह के कैंसर से बचाकर रखते है। 
छोटे बच्चों को चीकू खिलाने से आंखो की रोशनी बधाई जा सकती है। उसमें एंटीबेकटेरियल और एंटीवायरल होने से उनके शरीर में भी काफी फायदा होता है। वह शरीर में आने वाले बेकटेरिया को भी रोकता है। यदि आंखो में दर्द हो तो रोज चीकू खाने से दर्द को कम किया जा सकता है। चीकू में फाइबर का प्रमाण भी काफी ज्यादा होता है जो कब्ज की समस्या से छुटकारा देती है। 
पाचनतंत्र को मजबूत करने के लिए भी चीकू काफी उपयोगी है। चीकू के सेवन से ग्लूकोज की मात्रा बनी रहती है। जिससे की पूरे दिन काम-काज करने के बाद भी थकान नहीं महसूर होती। चीकू के लगातार सेवन से चेहरे पर की झुर्रियां भी दूर होती है। चीकू से कब्ज, एनीमिया जैसी शिकायतें भी दूर रहती है। चीकू से शरीर में हो रहे खून के नुकसान से भी बचा जा सकता है।
इस तरह छोटा सा दिखने वाला चीकू व्यक्ति के स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेकारक है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें