प्रयोगशाला में ही बनाया जायेगा मानव जिगर, चूहे का तो बना लिया!

(Photo Credit : medcalnewstoday.com)

ब्राज़ील के साओ पाउलो इंस्टीट्यूट ऑफ बायोसाइन्स के ह्यूमन जीनोम एंड स्टेम रिसर्च सेंटर ने विकसित की एक अनोखी तकनीक

मानव शरीर में लीवर एक महत्वपूर्ण अंग है। आए दिन कई मरीजों को समय पर लीवर ना मिल पाने के उनकी मृत्यु के समाचार सामने आई है। ऐसे में यदि वैज्ञानिकों का यह प्रयोग सफल रहा तो किसी को भी समय पर लीवर का दान नहीं मिलने की वजह से मरना नहीं पड़ेगा। इसके अलावा जिसका लीवर खराब हो रहा है या लीवर फ़ेल हो गया है तो उसका लीवर भी बदला जा सकेगा। 
ब्राज़ील के साओ पाउलो इंस्टीट्यूट ऑफ बायोसाइन्स के ह्यूमन जीनोम एंड स्टेम रिसर्च सेंटर ने एक अनोखी तकनीक विकसित की है। जिसके अनुसार अब वह लेब में ही लीवर का उत्पादन कर सकेगे। इसके अलावा लेब में ही लीवर का रिपेरिग वर्क भी किया जा सकेगा। अपने इस प्रयास में सेंटर ने चूहों के लीवर का निर्माण कर लिया है। अब वह इस तकनीक को और आधुनिक बना कर मानव लीवर का निर्माण करने की कोशिश करेगे। 
वैज्ञानिकों को आशा है कि वह यदि लेब में मनुष्य का लीवर बनाने में सफल रहते है तो विश्व में एक बड़ी समस्या हल करने में सफल रहेंगे। इस तरह से लेब में बने हुये लीवर का मानव शरीर में प्रत्यारोपन किया जा सकेगा। इस संशोधन के मुख्य वैज्ञानिक सुइस कार्लोस डी. केचर्स जूनियर ने बताया कि वाहन मानव शरीर में प्रत्यारोपन कर सके तो सबसे ज्यादा फायदा उन लोगों का होगा, जो डोनर के अभाव के कारण या कानूनी समस्या के कारण लीवर प्रत्यार्पण नहीं कर पाते। उन्होंने यह भी दावा किया कि वह जो लीवर तैयार करेंगे, उसे मानवशरीर रिजेक्ट नहीं करेगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें