गुजरात: महिसागर पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, बीजेपी नेता डबल मर्डर केस को सुलझाया

(Photo Credit : IANS)

हत्या करने वाला कोई और नहीं बल्कि मृतक के मित्र, घर के सामने ही रहता था आरोपी

लुनावाड़ा के पल्ला गांव में पुलिस ने भाजपा नेता और उनकी पत्नी की हत्या के मामले को सुलझा लिया है।  महिसागर पल्ला में बीजेपी नेता और उनकी पत्नी की हत्या उनके दोस्त ने ही की थी। आरोपी का नाम भीखा पटेल है। जिसे पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। फिलहाल पुलिस हत्या के मामले में आगे की जांच कर रही है।
जानकारी के अनुसार 5 अगस्त को लुनावाड़ा के पल्ला गांव में बीजेपी नेता त्रिभुवन पांचाल और उनकी पत्नी कारपिन की हत्या कर दी गई थी। इस मामले को सुलझाने में महीसागर पुलिस को बड़ी कामयाबी मिली है। पता चला है कि जिला पुलिस प्रमुख की कड़ी मेहनत से हत्या के मामले को सुलझा लिया गया है। पुलिस ने मामले में एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। पूरे मामले में पता चला है कि ये हत्या किसी और ने नहीं बल्कि मृतक के दोस्त ने ही की है।
लुनावाड़ा डबल मर्डर केस में पुलिस ने सोमवार को मृतक त्रिभुवनभाई पांचाल की दोस्त भीखा पटेल को गिरफ्तार किया है। भीखा पटेल मृतक त्रिभुवन पांचाल के सामने रहता है। घटना लुनवाड़ा के गोला के पल्ला गांव की है जहां  त्रिभुवन पांचाल और उनकी पत्नी की सिर में चाकू मारकर हत्या कर दी गई। पुलिस ने मामले में खुलासा किया है कि त्रिभुवन पांचाल की खास दोस्त भीखा पटेल ने पैसे लेकर इस अपराध को अंजाम दिया है। फिलहाल महिसागर पुलिस ने भीखा पटेल को गिरफ्तार कर लिया है और आगे की जांच कर रही है।
घटना क्रम की बात करें तो भाजपा नेता और उनकी पत्नी की 5 अगस्त को महिसागर जिले में हत्या कर दी गई थी।  इस घटना से क्षेत्र में खौफ फैल गया। महिसागर जिले के पल्ला गांव के भाजपा कार्यकारिणी सदस्य त्रिभुवनभाई पांचाल और उनकी पत्नी की देर रात अज्ञात लोगों ने हत्या कर दी। घटना के बाद जिले भर के भाजपा सदस्य और नेता मौके पर पहुंच गए। गृह राज्य मंत्री प्रदीपसिंह जडेजा ने इस संबंध में आदेश जारी किया था। साथ ही पुलिस ने अलग-अलग टीमें गठित कर जांच की।
प्राप्त जानकारी के अनुसार भाजपा कार्यकारिणी सदस्य त्रिभुवनभाई पांचाल व उनकी पत्नी की अज्ञात लोगों ने पाइप या धारदार हथियार से सिर पर प्रहार कर हत्या की। पुलिस ने मामले में डॉग स्क्वायड और एफएसएल की मदद ली।
इस घटना को लेकर ग्रामीणों का कहना है कि त्रिभुवनभाई बेहद शांत स्वभाव के थे। वे भाजपा के पुराने कार्यकर्ता हैं।  उनका कोई दुश्मन नहीं हो सकता। ऐसे में किस उद्देश्य से हत्या की गई यह जानना महत्वपूर्ण हो गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें