ओमिक्रोन के खौफ के बाद यूं तैयारी कर रहा गुजरात

(Photo Credit : sandesh.com)

राजकोट में 12 लोग हाई रिस्क एरिया से आए, सभी लोगों को क्वारंटाइन किया गया

कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रोम के भारत मे प्रवेश करने के साथ ही देशभर में प्रशासन अलर्ट पर आ गई है। सूरत में भी सरकारी सिविल अस्पताल और स्मीमेर अस्पताल ने अलर्ट मोड पर काम करना शुरू कर दिया है। ओमिक्रोम के मद्देनजर सिविल में कोविड अस्पताल की तीसरी मंजिल पर अलग वार्ड बनाया गया है। स्मीमेर अस्पताल में DCHC में एक सुविधा है। 2 हजार बेड से 3 हजार की तैयारी शुरू हो गई है। फिलहाल सिर्फ तीन मरीजों का इलाज कोविड सिविल अस्पताल में चल रहा है। इनमें 12 रेजिडेंट डॉक्टर, 2 कंसल्टेंट, 2 मेडिकल प्रोफेसर और 5 इंटर्न डॉक्टर भी हैं। इसके अलावा 22 नर्स और 25 से 30 नौकर कार्यरत हैं।
आपको बता दें कि अहमदाबाद में भी ओमीक्रोन के मद्देनजर सिस्टम अलर्ट पर है। अहमदाबाद में ओमाइक्रोन से शुरू हुई सतर्कता के अंतर्गत बीजे मेडिकल की प्रयोगशाला में सैंपल जांच की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा जीनोम सीक्वेंस जानने के लिए सैंपल पुणे भेजे जाएंगे। लैब में रोजाना चार हजार सैंपल की जांच की व्यवस्था की गई है। कोरोना पॉजिटिव मरीज का प्रकार जानने के लिए हर 15 दिन में सैंपल पुणे भेजे जाएंगे, इसके अलावा फिलहाल हर हफ्ते 5 पॉजिटिव सैंपल मिलते हैं। वहीं कमिश्नर अमित अरोड़ा के मुताबिक, ओमिक्रॉन की आशंका के बीच मनपा अलर्ट मोड पर काम कर रहे हैं। राजकोट में 12 लोग हाई रिस्क एरिया से आए हैं और इन सभी लोगों को क्वारंटाइन किया गया है। इन सभी लोगों का 7 दिन बाद दोबारा टेस्ट किया जाएगा। 12 लोगों में से 10 यूके के और 2 जर्मनी के थे।
समाचार एजेंसी सन्देश के अनुसार राजकोट में भी ओमिक्रोम के संदेह के बाद प्रशासन अलर्ट पर है। इसके साथ ही पीडीयू मेडिकल कॉलेज में इलाज करा रहे मरीज का सैंपल एहतियात के तौर पर पूना भेजा जाएगा। कलेक्टर का यह बयान भी सामने आया है कि उपचाराधीन मरीज स्थानीय है। दोनों आरोपियों की रिपोर्ट नेगेटिव पाई गई है। साथ ही विदेश से आए लोगों को शहर और जिले में क्वारंटीन किया गया है। घर के बाहर क्वारंटाइन किए गए व्यक्ति की भी पुलिस द्वारा निगरानी की जा रही है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें