गुजरातः ‘तौकते’ प्रभावित क्षेत्रों में मोबाइल नेटवर्क बहाल करने के प्रयास तेज

मोबाइल नेटवर्क

23 मई तक सेवाओं को बहाल करने स्थानीय प्रशासन और दूरसंचार विभाग कार्यरत

गुजरात में हाल ही में आए विनाशक चक्रवात ‘तौकते’ के कारण विशेषकर तटीय इलाकों में संचार ढांचे पर व्यापक प्रभाव पड़ा है। मुख्य रूप से अमरेली, भावनगर, बोटाद, जूनागढ़ और गिर-सोमनाथ जिले में मोबाइल टावरों को पहुंचे नुकसान के चलते मोबाइल फोन नेटवर्क बाधित हुआ है। 
राज्य सरकार और केंद्रीय दूरसंचार मंत्रालय ‘तौकते’ प्रभावित क्षेत्रों में मोबाइल नेटवर्क को बहाल करने की दिशा में आवश्यक हर कदम उठा रहे हैं। जिसके अंतर्गत अमरेली, भावनगर, बोटाद, जूनागढ़ और गिर-सोमनाथ समेत गुजरात के पांच जिलों और केंद्र शासित प्रदेश दीव में इंट्रा सर्किल रोमिंग सुविधा की अवधि दो दिनों के लिए बढ़ा दी गई है। 
‘तौकते’ प्रभावित इन पांच जिलों में मोबाइल फोन यूजर 22 मई की रात 12.00 बजे तक किसी भी सर्विस प्रोवाइडर कंपनी का नेटवर्क इस्तेमाल कर सकता है। आपातकालीन स्थिति को देखते हुए यह कामचलाऊ व्यवस्था की गई है। चक्रवात के प्रारंभिक चरण में इंट्रा सर्किल रोमिंग सुविधा राज्य के 16 जिलों में कार्यरत थी, जो अब पांच जिलों में कार्यरत है। 
इस निर्णय के चलते ‘तौकते’ प्रभावित पांच जिलों और केंद्र शासित प्रदेश दीव में सभी मोबाइल उपभोक्ता दो दिनों तक उनके क्षेत्र में उपलब्ध किसी भी नेटवर्क का लाभ ले सकता है। इसके लिए मोबाइल फोन यूजर को अपने फोन की सेटिंग बदलकर नेटवर्क सिलेक्शन ऑटोमेटिक मोड पर करना होगा। यह करने पर भी यदि नेटवर्क नहीं आता है, तो उपलब्ध टूजी, थ्रीजी या फोरजी और कंपनी नेटवर्क में से मैन्यूअली सिलेक्ट करना होगा। 
राज्य सरकार के नेतृत्व में स्थानीय प्रशासनिक तंत्र और केंद्रीय दूरसंचार विभाग द्वारा ‘तौकते’ प्रभावित पांच जिलों में मोबाइल नेटवर्क के ढांचे को 23 मई तक बहाल करने की संभावना है। जब तक संचार या मोबाइल नेटवर्क सेवा बहाल नहीं होती, तब तक इंट्रा सर्किल रोमिंग सुविधा की अवधि को समय-समय बढ़ाया जाएगा। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें