गुजरात: विधानसभा चुनाव से पहले बीजेपी का बड़ा प्रयोग, सभी पुराने मंत्रियों को हटाकर नई कैबिनेट का किया गठन

मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल ने विधिवत पदभार संभाला

नई कैबिनेट में सूरत के चार चेहरे, सूरत के एक कैबिनेट और तीन विधायकों को बनाया गया राज्य मंत्री

2022 के विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी ने गुजरात में सबसे बड़ा प्रयोग किया है। बीजेपी ने पहले तो विजय रूपाणी को मुख्यमंत्री पद से हटा दिया और भूपेंद्र पटेल को राज्य की बागडोर दी गई। अब पार्टी ने सभी पुराने मंत्रियों को हटाकर नई कैबिनेट का गठन किया है।  गांधीनगर में आज 10 कैबिनेट मंत्रियों समेत कुल 24 मंत्रियों ने शपथ ली। नई कैबिनेट ने सभी समाज, क्षेत्र समेत कई समीकरणों का ध्यान रखा है। ऐसे में अब नई कैबिनेट में सूरत का दबदबा भी देखने को मिला है।
आपको बता दें कि गुजरात की नई सरकार में सूरत का दबदबा बढ़ा है। नई कैबिनेट में सूरत से एक कैबिनेट और तीन विधायकों को राज्य मंत्री बनाया गया है। नए कैबिनेट में पूर्णेश मोदी को कैबिनेट मंत्री बनाया गया है। माजुरा से विधायक और युवा नेता हर्ष सांघवी को राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) बनाया गया है। ओलपाड से विधायक मुकेश पटेल और कतरगाम से वीनू मोर्डिया को भी नए मंत्रिमंडल में सीटें मिली हैं। गौरतलब है कि सूरत से सांसद दर्शन जरदोश को पहले केंद्र सरकार में राज्य मंत्री बनाया गया था। ऐसे में देखा जाए तो सूरत का दबदबा बढ़ता ही जा रहा है।
गौरतलब है कि कुछ महीने पहले राज्य में हुए स्थानीय निकाय चुनाव में आम आदमी पार्टी शामिल हुई थी। आप को सबसे ज्यादा सफलता गुजरात में सूरत नगर निगम चुनाव में मिली थी। सूरत में आम आदमी पार्टी ने 27 सीटें जीतकर गुजरात की राजनीति में आगे बढ़ने का सपना देख रहे है। आगामी विधानसभा चुनाव के साथ, गुजरात के नए मंत्रिमंडल में सूरत का प्रतिनिधित्व बढ़ा दिया गया है।
जानकारी के लिए बता दें कि सूरत को पाटीदारों का गढ़ माना जाता है। सूरत की कई सीटों पर जीत-हार का फैसला पाटीदार कर रहे हैं, जिसमें बीजेपी ने कुमार कनानी को हटाकर पाटीदार नेता वीनू मोर्दिया को मंत्री बनाया है। साथ ही ओलपाड के मुकेश पटेल को भी मंत्री बनाया गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें