गुजरात : बार काउंसिल ने पांच हजार वकीलों के लिए जारी किया अधिसूचना, नहीं कर सकेंगे किसी भी अदालत में अभ्यास या वकालत

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

गुजरात सहित पूरे देश में कानून का अभ्यास करने के लिए बार काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित अखिल भारतीय बार परीक्षा पास करना अनिवार्य है

गुजरात के बार काउंसिल ने देश भर में वकालत की प्रैक्टिस के लिए बार काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित अखिल भारतीय बार परीक्षा में पास नहीं हो पाने वाले राज्य के लगभग 5 हजार वकीलों के लिए एक आदेश जारी कर सूचित किया है कि ऐसे वकील वकालत का अभ्यास नहीं करेंगे। गुजरातबार काउंसिल ने इस मुद्दे पर आज एक तत्काल बैठक बुलाई, जिसमें अखिल भारतीय स्तर की परीक्षा उत्तीर्ण करने में विफल रहने वाले 5 हजार राज्य वकीलों को तत्काल प्रभाव से किसी भी जिला या तालुका स्तर की अदालत या उच्च न्यायालय के सर्वोच्च न्यायालय में अभ्यास करने और पेश होने से रोकने के लिए आदेश जारी कर दिया गया है।
आपको बता दें कि गुजरात बार काउंसिल द्वारा लिए गए महत्वपूर्ण फैसले के बारे में नामांकन समिति के अध्यक्ष अनिल केला ने कहा कि ये 5,000 वकील जो अखिल भारतीय बार परीक्षा पास नहीं कर सके, उन्हें गुजरात सहित देश भर की किसी भी अदालत में वकालत करने का अधिकार नहीं है। इसलिए तत्काल प्रभाव से उन्हें किसी भी अदालत में कानून का अभ्यास नहीं करने और अदालत में पेश नहीं होने का आदेश दिया गया। यदि यह पाया जाता है कि ये वकील किसी भी अदालत में पेश होकर कानून का अभ्यास कर रहे हैं तो गुजरात बार काउंसिल द्वारा कानूनी कार्रवाई की जाएगी।  उन्होंने आगे कहा कि गुजरात सहित पूरे देश में कानून का अभ्यास करने के लिए बार काउंसिल ऑफ इंडिया द्वारा आयोजित अखिल भारतीय बार परीक्षा पास करना अनिवार्य है। यदि कोई वकील उम्मीदवार दो साल तक इस परीक्षा को पास नहीं कर पाता है तो उसे एक अनंतिम प्रमाण पत्र दिया जाता है जिसके आधार पर वह किसी भी अदालत में अभ्यास कर सकता है लेकिन अगर वह एक वर्ष में इस परीक्षा को पास नहीं कर पाता है तो अनंतिम प्रमाण पत्र का सत्यापन पूरा हो जाता है और फिर वह अभ्यास नहीं कर सकता।
गुजरात के करीब 50 हजार वकीलों ने 2010 से अब तक यह परीक्षा दी है। उसमें से पांच हजार वकील दो साल की निर्धारित समय सीमा के भीतर पास नहीं हो सके।  हालांकि, गुजरात बार काउंसिल को विभिन्न शिकायतें मिलीं कि ये पांच हजार वकील विभिन्न अदालतों में प्रैक्टिस कर रहे थे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें