सूरत और राजकोट को पीछे छोड़ प्रॉपर्टी बाजार में आगे निकल रहा गिफ्ट सिटी गांधीनगर

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo Credit : Pixabay.com)

अगले पांच वर्षों में 2,700 करो योजनाड़ रुपये के निवेश के साथ परिसर में लगभग 55 लाख वर्ग फुट आवासीय अचल संपत्ति की योजना

कोरोना के कारण दो साल से जूझ रहा बाजार अब धीरे-धीरे अपने रंग में वापस आ रहा है. अब वित्त वर्ष 2021-22 के लिए प्रॉपर्टी बाजार में रिकॉर्ड स्टांप-ड्यूटी संग्रह के अनुसार गिफ्ट सिटी गांधीनगर ने प्रॉपर्टी बिक्री में सूरत और राजकोट जैसे पिछले प्रमुख शहरों को पीछे छोड़ दिया है। वाणिज्यिक के बाद, आवासीय अचल संपत्ति निवेश ने भी गांधीनगर में भारत के पहले अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्र (आईएफएससी) में गति पकड़ी है। गिफ्ट सिटी के अधिकारियों के अनुसार, अगले पांच वर्षों में 2,700 करोड़ रुपये के निवेश के साथ परिसर में लगभग 55 लाख वर्ग फुट आवासीय अचल संपत्ति की संभावना आ रही है।
टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ओर से मिली जानकारी के अनुसार कई वैश्विक और घरेलू कंपनियों ने गिफ्ट सिटी में परिचालन शुरू किया है। इस कारण यहां आवासीय इकाइयों की मांग बढ़ गई और इस मांग को पूरा करने के लिए, डेवलपर्स वॉक-टू-वर्क अवधारणा के अनुरूप परियोजनाओं के साथ आ रहे हैं। प्रमुख अहमदाबाद स्थित डेवलपर्स निवेश के लिए गिफ्ट विशेष आर्थिक क्षेत्र (एसईजेड) और गैर-एसईजेड क्षेत्र पर नजर गड़ाए हुए हैं।
इस बारे में सेवी इन्फ्रास्ट्रक्चर के सीएमडी जक्षय शाह ने कहा कि गिफ्ट सिटी दुबई मरीना की तर्ज पर विकसित होगी. अहमदाबाद स्थित ब्लू स्पेस भी आवासीय परियोजना के लिए 300 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। “हमारी योजना स्टूडियो अपार्टमेंट से लेकर तीन बेडरूम वाले अपार्टमेंट तक 500 घर बनाने की है। यहां आवासीय विकास की बहुत बड़ी संभावनाएं हैं।
आपको बता दें कि भारत के मेट्रो शहरों के खरीदारों को यहां निवेश करने का आकर्षित किया जाता है। यहां काम करने वाली कंपनियों में काम करने वाले कई पेशेवरों के साथ, डेवलपर्स आवासीय संपत्तियों की मांग के बारे में उत्साहित हैं। गिफ्ट सिटी में निवेश में वृद्धि के साथ, गांधीनगर आवासीय और वाणिज्यिक अचल संपत्ति के लिए तेजी से बढ़ते केंद्रों में से एक के रूप में उभर रहा है। गुजरात रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी (गुजरेरा) प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध आंकड़ों के अनुसार, अहमदाबाद और वडोदरा के बाद, यह नई परियोजनाओं की शुरूआत में वार्षिक वृद्धि दर्ज करने वाला तीसरा प्रमुख शहर है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें