सूरत में टेक्सटाइल मार्केट खोलने की पहले दी गई मंजूरी विवाद के बाद रद्द की गई

सूरत में जिला कलेक्टर ने प्रशासनिक कारण से टेक्सटाइल मार्केट चालु करने का आदेश वापस ले लिया

जिला कलेक्टर ने प्रशासनिक कारण से मार्केट चालू करने का आदेश वापस ले लिया

ध सधर्न गुजरात चेम्बर ऑफ कोमर्स द्वारा सूरत शहर के विभिन्न टेक्सटाईल संगठनों की मांग पर जिला कलेक्टर से 10 और 11 मई को सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक मार्केट खोलने की परमिशन मांगी थी। जिला कलेक्टर द्वारा परमिशन तो दे दी गई मगर प्रशासनिक कारण से सुबह दी गई परमिशन को शाम होने से पूर्व रद्द कर दिया गया।
चेम्बर ऑफ कोमर्स एन्ड इन्डस्ट्री द्वारा जिला कलेक्टर डॉ. धवल पटेल को ई-मेल के माध्यम से सूरत के टेक्सटाईल मार्केट 10 और 11 मई 2021 को दो दिनों तक सूबह 10 से दोपहर 2 बजे तक व्यवसाय के लिए खोलने की परमिशन मांगी थी। जिला कलेक्टर ने चेम्बर की परमिशन का स्वीकार करते हुए सूरत के सभी टेक्सटाईल मार्केटों को ट्रेड रिलेटेड काम काज हेतु चार-चार घंटे तक खोलने की ई-मेल के माध्यम से परमिशन दी।
इसके बारे में चेम्बर को 10 मई को दोपहर 12.30 बजे पता चला। ऐसे में 10 मई को मार्केट खोलने परमिशन की जानकारी व्यापारियों और विविध मार्केट एसोसिएशनों तक पहुंचे उससे पूर्व ही मार्केट बंद करने का समय हो गया। इस‌लिए चेम्बर ने सोश्यल मीडिया के माध्यम से कलेक्टर द्वारा दी गई परमीशन का लेटर जारी करते हुए जानकारी दी कि कल यानी 11 मई 2021 को सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक व्यापारी टेक्सटाईल मार्केट की दुकाने खोल सकते हैं। इस लेटर को सूरत महानगर पालिका के जिम्मेदार अधिकारियों को भी भेजा गया था।
बता दें कि राज्य सरकार ने 12 मई 2021 तक महानगरों में व्यावसायिक गतिविधियों पर कडी पाबंदी लगा रखी है। राज्य सरकार के आदेश से सूरत शहर पुलिस भी पाबंदी को लेकर अधिसूचना भी जारी कर चुकी है। ऐसी परिस्थिति में जिला कलेक्टर ने टेक्सटाईल मार्केट शुरू करने की परमिशन दे दी, मगर पुलिस परमिशन भी जरूरी होती है। इस लिए जिला कलेक्टर डॉ. धवल पटेल और पुलिस आयुक्त अजय कुमार तोमर ने टेक्सटाईल संबंधित संस्थाओं से चर्चा  की। इस चर्चा के दौरान एक दिन मार्केट नहीं खुलेगा तो चलेगा, इस प्रकार का अभिप्राय अग्रणी ट्रेडर्स और विभिन्न संस्थाओं ने दिया।  जिला कलेक्टर ने इस चर्चा के बाद टेक्सटाईल मार्केट जो 11 मई को सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक खोलने की परमिशन दी थी, उस आदेश को प्रशासनिक कारण का हवाला देते हुए रद्द करने का नया परिपत्र जारी कर दिया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें