प्लास्टिक के नींबू में छिपाकर करते थे ड्रग्स की हेराफेरी, 1 अरब रुपए की गोलियां हुई बरामद

प्रतिकात्मक तस्वीर

दुनिया भर के देशों के लिए ड्रग्स की समस्या एक बड़ी समस्या बन चुकी है। ड्रग्स पेड़लर्स आए दिन ड्रग्स चुराने के लिए नए-नए पैंतरे आजमाते रहते है। कुछ ऐसा ही नया पैंतरा आजमाया था यूएई के कुछ ड्रग्स स्मगलर्स ने, यहाँ नींबू में छिपाकर ड्रग्स की चोरी की जाती थी। प्लास्टिक के इन नींबू में ड्रग्स छिपाकर वह एक जगह से दूसरे जगह ले जाते थे। हालांकि दुबई पुलिस ने इस मामले में चार लोगों को हिरासत में लिया है। चारों के पास से पुलिस ने तकरीबन 1 अरब का ड्रग्स हिरासत में लिया था। 
पुलिस ने जिन चार लोगों को हिरासत में लिया है उनके पास से कैप्टागोन नाम की दवा मिल आई है, जो की लेबनोन और इराक तथा सीरिया में बनती है। इसमें अधिकतर दावा तो स्मगल कर के लाई जाती है। एक न्यूज रिपोर्ट के अनुसार, इन ड्रग्स की कीमत तकरीबन 15.8 मिलियन डॉलर यानि की 1 अरब 18 डॉलर से अधिक है। पुलिस को अपने खुफिया सूत्रों के हवाले से इस बारे में जानकारी मिली थी। दुबई पुलिस द्वारा प्लास्टिक के नींबुओं में छिपाई गई तकरीबन 1160500 गोलीय जप्त की गई है। पुलिस ने बताया कि एक रेफ्रीजरेटेड कंटेनर के जरिये यह सारा माल स्मगल हो रहा था, जिसमें नींबू के 3840 डब्बे थे। इन सभी डब्बों में 66 डब्बों में नकली नींबू और नशीले पदार्थ थे। 
पुलिस ने एक वीडियो भी जारी किया है जिसमें लेबनानी प्रतीकों वाला एक बॉक्स दिखाया गया है। लेबनान को अक्सर खाड़ी देशों द्वारा ड्रग्स के खिलाफ लड़ाई में सहयोग नहीं करने के लिए निशाना बनाया जाता है। अप्रैल में, सऊदी अरब ने घोषणा की कि वह फल में 5 मिलियन से अधिक कैप्टागन टैबलेट पाए जाने के बाद लेबनानी फलों और सब्जियों के आयात को निलंबित कर देगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें