कोरोना काल में डोकटर की बेबसी, घर के बाहर खड़े होकर मनाई अपनी शादी की सालगिरह

(Photo Credit : onegujarat.com)

परिवार के भारी आग्रह के कारण 20 दिन के बाद आए घर, घर के बाहर ही रहकर सोशल डिस्टेन्स के साथ मनाई सालगिरह

देश भर में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के कारण डॉक्टरों की स्थिति काफी खराब हो चुकी है। दवा और ऑक्सीज़न की कमी के बीच मरीजों की जान बचाने के लिए सभी डॉक्टर लगातार प्रयास कर रहे है। भारी संक्रमण के बीच भी डॉक्टर बिना अपनी जान की परवा किए बिना मरीजों की सेवा कर रहे है। ऐसे में कई डॉक्टर तो कई दिनों तक अपने घर भी नहीं जा रहे। कुछ समय पहले ही बनासकाँठा के डिसा में से एक ऐसा किस्सा सामने आया, जिसे सुनकर आप सभी को इस डॉक्टर और उनके परिवार के प्रति सम्मान की भावना आएगी। 
बनासकांठा के डिसा में हेत आईसीयू नामक अस्पताल में काम करने वाले डॉ. विशाल ठक्कर लगातार कोरोना के मरीजों के सेवा कर रहे है। जिसके चलते वह पिछले 20 दिन से तो अपने घर भी नहीं गए है। मरीजों की अधिक संख्या के अलावा परिवार के किसी भी सदस्य को संक्रमण ना हो इस लिए वह 20 दिन से अपने हर नहीं गए थे। हालांकि मंगलवार को अपनी शादी की आठवीं सालगिरह को मनाने के लिए परिवार के भारी आग्रह के बाद वह घर आए। 

परिवार के दबाव के बाद वह घर तो आए पर घर के दरवाजे से आगे नहीं बढ़े थे। घर के बाहर ही खड़े रहकर उन्होंने अपनी शादी की सालगिरह मनाने का फैसला किया। परिवार ने घर के बाहर ही केक काटकर उन्हें दिया और वह भी घर के बाहर ही खड़े रहकर केक खाने लगे। इस दौरान घर के बाहर ही खड़े रहकर उन्होंने अपने परिवार के सदस्यों से बात की थी। विशाल कहते है की आठ साल में पहली बार वह उन्होंने अपनी शादी की सालगिरह अपने परिवार से दूर रहकर मनाई। वह 20 दिन से घर नहीं गए थे, पर परिवार के आग्रह के कारण वह उस दिन घर गए और सोशल डिस्टेन्स के साथ सालगिरह मनाई। 
आगे बात करते हुये वह कहते है की फिलहाल कोरोना की चैन तोडने के लिए सोशल डिस्टेन्स तो जरूरी ही है। फिलहाल जो स्थिति है उसे देखते हुए सभी डॉक्टर यदि दिन रात काम करे तो भी वह मरीजों तक नहीं पहुँच पा रहे है। सोशल मीडिया पर भी विशाल का यह वीडियो काफी वायरल हो रहा है और लोग उनकी कर्तव्य निष्ठा की काफी तारीफ कर रहे है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें