गुजरात : अनाथ युवक होमगार्ड की भर्ती में जिंदगी की दौड़ हारा, सीने में दर्द होने के बाद युवक की मौत

गुजरात : अनाथ युवक होमगार्ड की भर्ती में जिंदगी की दौड़ हारा, सीने में दर्द होने के बाद युवक की मौत

बचपन से माता-पिता गंवाने वाले युवक को नौकरी मिलने से पहले ही मौत मिली

गुजरात के मोडासा तहसील के भीलकुवा गांव का एक युवक रविवार को होमगार्ड की भर्ती में गया था। युवक का फिजीकल टेस्ट लिए जाने के बाद अचानक उसके सीने में दर्द उठा। लेकिन युवक की उपचार मिलने से पहले ही मौत हो गई। बचपन से माता-पिता छत्रछाया गंवाने वाला युवक चाचा के साथ रहकर बड़ा हुआ था। उसकी मौत से पूरे विस्तार में मातम छा गया।
मोडासा तहसील के साकरिया निकट होमगार्ड की भर्ती प्रक्रिया हुई। जिसमें तहसील से बड़ी संख्या में युवक नसीब अजमाने आए थे। तहसील के भीलकुवा गांव का युवक 26 वर्षीय रणजीतसिंह रजुसिंह परमार भी भर्ती में शामिल हुआ था। बचपन से ही युवक ने माता-पिता की छत्रछाया गंवा दी थी। चाचा-चाची ने उसका पालन पोषण किया था। खुद के पैरों पर खड़ा होने के लिए युवक होमगार्ड की भर्ती में नसीब अजमाने आया था। लेकिन उसकी कमनसीबी ने उसका पीछा नहीं छोड़ा।
 फिजीकल टेस्ट के बाद डॉक्युमेंट की जांच की जा रही थी। उस समय अचानक युवक के सीने में दर्द हुआ। जिसके कारण वह बैठ गया। भर्ती में आए अन्य युवक उसकी मदद के लिए आये और उसे उपचार के लिए अस्पताल भर्ती किया गया। लेकिन उपचार मिलने से पहले ही 26 वर्षीय युवक की मौत हो गई। चिकित्सक ने युवक को मृत घोषित करने पर भर्ती में आए अन्य युवक और परिवार मातम छा गया। घटना के कारण मोडासा रूरल पुलिस घटना स्थल पर पहुंच कर मृतक का पोस्टमोर्टम करने की कार्यवाही की थी। 
गौरतलब है कि बचपन में मां-बाप गंवाने वाले युवक की जैसे तैसे जीवनयापन कर रहा था। उसकी शादी तीन साल पहले हुई थी। उसे दो संतान है। युवक की मौत से अब दो संतानों ने भी पिता की छत्रछाया गंवा दी।