क्या सड़कों पर फिर से दिखेंगी हिन्दुस्तान मोटर्स की ये लोकप्रिय कार? इसको लेकर सामने आई बड़ी खबर

1980 से 2000 के दशक की शुरुआत तक हिन्दुस्तान मोटर्स लिमिटेड द्वारा भारत में बेची जाने वाली एक प्रीमियम सेडान थी ‘कॉन्टेसा’

सीके बिड़ला समूह की कंपनी हिन्दुस्तान मोटर्स लिमिटेड ने अपने ‘कॉन्टेसा’ ब्रांड को एसजी कॉरपोरेट मोबिलिटी प्राइवेट लिमिटेड को एक अज्ञात राशि में बेचने पर सहमत हो गई है।  कंपनी ने शेयर बाजार को को यह जानकारी दी है कि हिंदुस्तान मोटर्स ने एक नियामक फाइलिंग में कहा कि कंपनी ने एसजी कॉरपोरेट मोबिलिटी प्राइवेट के साथ एक ब्रांड ट्रांसफर समझौता किया है। कॉन्टेसा वर्ष 1980 से 2000 के दशक के दौरान हिंदुस्तान मोटर्स द्वारा भारत में बेची जाने वाली एक सेडान कार थी। यह काफी लोकप्रिय हुई थी। इसके अलावा, अनुबंध में निर्धारित नियमों और शर्तों को पूरा करने पर ब्रांड का हस्तांतरण प्रभावी होगा। कॉन्टेसा 1980 से 2000 के दशक की शुरुआत तक हिन्दुस्तान मोटर्स लिमिटेड द्वारा भारत में बेची जाने वाली एक प्रीमियम सेडान थी। वह कंपनी के तत्कालीन लोकप्रिय मॉडल एंबेसडर से ऊपर थे।
कंपनी ने बताया है कि कॉन्टेसा ब्रांड को बेचने के लिए 16 जून, 2022 को एसजी कॉरपोरेट मोबिलिटी के साथ एक ब्रांड स्थानांतरण समझौता किया है। हिन्दुेस्ताोन मोटर्स ने पश्चिम बंगाल और महाराष्ट्र दोनों फैसिलिटी में कम प्रोडक्शन और घटती डिमांड के कारण 2014 में काम बंद कर दिया था। इसके बाद, फ्रेंच कंपनी पीएसए ग्रुप ने साल 2017 में एम्बेसडर को हिंदुस्तान मोटर्स से 80 करोड़ रुपये में खरीद लिया।
वैश्विक खिलाड़ियों की प्रतिस्पर्धा ने हिंदुस्तान मोटर्स को भी कड़ी टक्कर दी, 2014 से पश्चिम बंगाल के उत्तरपारा में अपनी विनिर्माण इकाई को बंद कर दिया और राजदूत कार का उत्पादन भी बंद कर दिया। तब एंबेसडर ब्रांड को फरवरी 2017 में फ्रांसीसी ऑटोमेकर पीएसए ग्रुप (अब स्टैलेंटिस का हिस्सा) ने 80 करोड़ रुपये में अधिग्रहित कर लिया था। हिंदुस्तान मोटर्स के राजदूत की वापसी की अफवाहों के इंटरनेट पर आने के कुछ दिनों बाद, बाद की एक रिपोर्ट ने सुझाव दिया कि प्रतिष्ठित एचएम कोंटेसा मसल कार को भारतीय बाजार में फिर से लॉन्च किया जा सकता है। वापसी को साबित करने के लिए, प्रकाशन ट्रेडमार्क का विवरण साझा करता है, जिसे मार्च 2022 में हिंदुस्तान मोटर्स लिमिटेड द्वारा अपने कोलकाता कॉर्पोरेट कार्यालय में कॉन्टेसा के रूप में अपना नाम पंजीकृत करने के लिए लॉन्च किया गया था।
बता दें कि हिंदुस्तान कॉन्टेसा को 1984 से लेकर 2002 के बीच मैन्यूफैक्चर किया गया था। 1983 में पेश की गई ये लंबी सेडान भारत में उपलब्ध चुनिंदा लग्जरी कारों में से एक थी। शुरुआत में इसमें 4ZB1 पेट्रोल इंजन दिया था जिसके साथ 5-स्पीड गियरबॉक्स आता था। इस कार की सीटें बेहद आरामदायक थी। साल 1990 में कंपनी ने इस कार में इसुजु से ही लिया गया 2।0 लीटर 4FC1 इंजन देना शुरू किया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें