महाभारत काल के कर्ण का अंतिम संस्कार सूरत में ही क्यों किया गया था? जानिए रोचक ऐतिहासिक तथ्य

(Photo Credit : facebook.com/GujaratMedia)

कर्ण की जीवन गाथा के बारे में तो हमने बहुत सुना होगा। लेकिन क्या आपने कभी उनकी मौत के बारे में सुना है?

रामायण और महाभारत हिन्दू सभ्यता की नींव हैं। महाभारत हमने जीवन जीने के तरीकों को सिखाता है। महाभारत में एक से बढ़ कर एक महारथी लोगों का जिक्र हैं जिनमें से एक हैं कर्ण। लेकिन बहुत कम लोगों को पता हैं कि महाभारत के कर्ण का अंतिम संस्कार सूरत में किया गया। कर्ण का अंतिम संस्कार सूरत में ही क्यों हुआ उसके पीछे भी एक कहानी है। इस तथ्य को जानना आपके लिए बहुत जरूरी है और हम आपको इसके बारे में बताने जा रहे हैं।
दानवीर कर्ण पांडवों की माता कुंती के सबसे बड़े पुत्र थे। कर्ण की जीवन गाथा के बारे में तो हमने बहुत सुना होगा। लेकिन क्या आपने कभी उनकी मौत के बारे में सुना है? जब महाभारत का युद्ध चल रहा था और अर्जुन-कर्ण के बीच युद्ध चल रहा था, तब कर्ण के रथ का पहिया जमीन में धंस गया। तब कर्ण ने भीष्म पितामह के बनाएं नियमों की बात करते हुए अर्जुन से कहा, "हे अर्जुन, जब तक मैं रथ का पहिया नहीं निकाल लेता, तब तक तुम मुझ पर आक्रमण नहीं करोगे।" यह सुनकर अर्जुन रुक गया। तब भगवान कृष्ण ने कहा, ‘हे अर्जुन, तुम क्यों रुके? तीर मारो।’ जब अर्जुन ने कहा कि वह युद्ध के खिलाफ है। तब भगवान कृष्ण ने याद दिलाया कि अभिमन्यु एक अकेले योद्धा से लड़ रहा था, तब युद्ध के नियम ज्ञात नहीं थे। भरी सभा में जब द्रोपदी से अपशब्द कहे गये तो नियमों का उल्लंघन नहीं हुआ?
इन शब्दों को सुनकर अर्जुन क्रोधित हो गए और उन्होंने कर्ण पर भगवान शिवजी का दिया हुआ अस्त्र चला दिया। अर्जुन के इस बाण से कर्ण मृत्यु के समीप पहुँच गया। जब कर्ण अपनी मृत्यु की प्रतीक्षा कर रहा था तब भगवान कृष्ण ने कर्ण की परीक्षा लेने का विचार किया। भगवान कृष्ण ने एक ब्राह्मण का रूप धारण किया और कहा, ‘हे कर्ण, मेरी बेटी की शादी हो रही है और मेरे पास उसे देने के लिए सोना नहीं है, इसलिए मुझे सोना दो।’ तब कर्ण ने कहा कि मेरे पास कुछ नहीं है। मैं तुम्हें क्या दान कर सकता हूं। तब ब्राह्मण ने कहा कि तुम्हारे पास सोने का दांत है। वह दान कर दो। कर्ण ने कहा कि मुझे एक पत्थर से मारो और मेरा दांत निकाल दो। ब्राह्मण ने ऐसा करने से मनाकर दिया और कहा कि दान तो खुद ही करना पड़ता है।
इसके बाद कर्ण ने अपने समीप पड़े पत्थर को उठाया और उससे अपना दांत तोड़कर ब्राह्मण को दे दिया। इस पर ब्राह्मण ने कहा कि यह दांत को गंदा हो गया उसे साफ करो। इस पर कर्ण ने अपने धनुष से धरती पर बाण चलाया तो वहां से गंगा की तेज जलधारा निकल पड़ी। उससे दांत धोकर कर्ण ने कहा अब तो ये शुद्ध हो गया। इसके बाद कर्ण को एहसास हुआ कि यह कोई साधारण ब्राह्मण नहीं है। यह एक परमात्मा है। ताकि तुम उसे अपना असली रूप दिखाओ।
भगवान कृष्ण अपने वास्तविक रूप में प्रकट हुए। श्रीकृष्ण ने तब कर्ण से कहा था कि ‘‘तुम्हारी यह बाण गंगा युग युगों तक तुम्हारा गुणगान करती रहेगी।‘‘ घायल कर्ण को श्रीकृष्ण ने आशीर्वाद दिया था कि ”जब तक सूर्य, चन्द्र, तारे और पृथ्वी रहेंगे, तुम्हारी दानवीरता का गुणगान तीनों लोकों में किया जाएगा। संसार में तुम्हारे समान महान दानवीर न तो हुआ है और न कभी होगा।"
श्रीकृष्ण ने कर्ण से कहा कि वह उनसे कोई भी वरदान मांग़ सकते हैं। कर्ण ने कृष्णजी से कहा कि एक निर्धन सूत पुत्र होने के कारण उसके साथ बहुत छल हुए हैं। अगली बार जब कृष्णजी धरती पर आएं तो वह पिछड़े वर्ग के लोगों के जीवन को सुधारने के लिए प्रयत्न करें। इसके साथ कर्ण ने दो और वरदान मांगे। दूसरे वरदान के रूप में कर्ण ने यह मांगा कि अगले जन्म में कृष्णजी उन्हीं के राज्य में जन्म लें और तीसरे वरदान में उन्होंने श्रीकृष्ण से कहा कि उनका अंतिम संस्कार एक कुंवारी भूमि पर करना। खोजबीन करने पर सूरत में तापी नदी ही कुवांरी नदी मिली, जिसे क्वांरी माता नदी भी कहा जाता है। इसी तापी नदी के किनारे कर्ण का शवदाह हुआ और आज भी यहाँ कर्ण का मंदिर है। सूरत का चारधाम मंदिर, तीन पत्रो का वट वृक्ष कर्ण के अंतिम संस्कार के साक्ष्य रूप हैं।
(Photo Credit : facebook.com/GujaratMedia)
तापी नदी के किनारे कर्ण का शवदाह किए जाने के पश्चात् पांडवों ने जब कुंवारी भूमि होने पर शंका जताई तो श्रीकृष्णजी ने कर्ण को प्रकट करके उससे आकाशवाणी द्वारा कहलाया था कि वो सूर्य के पुत्र हैं और अश्विनी और कुमार उनके भाई हैं। तापी उनकी बहन हैं। उनका अग्निदाह कुंवारी भूमि पर ही किया गया है। पांडवों ने कहा हमें तो पता चल गया परंतु आने वाले युगों को कैसे पता चलेगा? तब भगवान कृष्ण ने कहा कि यहां पर तीन पत्रों का वट वृ़क्ष होगा जो ब्रह्मा, विष्णु, और महेश का प्रतीक रूप होगा। 
ऐसी मान्यता है कि यहां कोई भी सच्चे विश्वास के साथ प्रार्थना करेगा तो उसका मनोरथ कार्य अवश्य पूर्ण होगा। इस प्रकार यह वृक्ष आज भी सूरत में तापी नदी के तट पर खड़ा है और इसके पास यह तीन पत्तों वाला वृक्ष है। जिसे सूरत में तीन पत्ती वाले तिपतिया घास के नाम से जाना जाता है।

'गुजरात पेज' की फेसबुक वॉल से साभार

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें