वापी: कॉलेज की आचार्या की मौत का सनसनीखेज मामला; ६ दिन पहले हुई थीं हत्या, कार में मिला जला हुआ शव

(Photo Credit : IANS)

मामले में बड़ा खुलासा, कॉलेज के एकाउंटेंट ने ही महिला प्रिंसिपल की हत्या कर सबूत मिटाने के लिए जलाई कार

सेलवास में रहने वाली और दमन के एक सरकारी नर्सिंग कॉलेज की महिला प्रिंसिपल की हत्या मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। इस मामले में सबसे चौंकाने वाला खुलासा ये हुआ है कि कॉलेज के एकाउंटेंट ने ही महिला प्रिंसिपल की हत्या कर सबूत मिटाने के लिए शव को कार से जला दिया था। केंद्र शासित प्रदेश पुलिस ने आरोपी सावन पटेल को गिरफ्तार कर लिया है और आगे की पूछताछ कर रही है। खुलासा हुआ है कि कॉलेज के मेस फंड और प्रवेश शुल्क में आरोपितों द्वारा किये गये घोटाले की जानकारी प्राचार्य को दिए जाने के बाद आरोपी ने हत्या की है।
जानकारी के अनुसार 28 फ़रवरी को आरोपी सावन पटेल ने महिला प्रधानाध्यापक की कार में लिफ्ट मांगी। आरोपित ने कॉलेज में वित्तीय अनियमितता के मामले में जानकारी देने के लिए कार में लिफ्ट ली। इसके बाद महिला प्रिंसिपल की कार में ही हत्या कर दी। इसके बाद आरोपी ने कार को वापी शहर के तारकपर्डी के पास पार्क किया और सबूत मिटाने के लिए शव के साथ कार में आग लगा दी गई थी। पुलिस ने महिला प्राचार्य का जला हुआ शव और कार को कब्जे में ले लिया है। दरअसल मृतक प्राचार्या ने कॉलेज के मेस फंड और प्रवेश शुल्क (एडमिशन फी) में हुए घोटाले को लेकर आरोपी से जवाब मांगा था और पूरे मामले को स्पष्ट करने को कहा था।
बता दें कि सेलवास निवासी कनिमोझी मुरुगम दमन के सरकारी नर्सिंग कॉलेज में प्राचार्या के पद पर कार्यरत थी। 28 फरवरी को नर्सिंग कॉलेज के लिए घर से निकलने के बाद वह कॉलेज नहीं पहुंची। उसके पति ने सेलवास पुलिस में गुमशुदगी की शिकायत दर्ज कराई थी। वापी दमन सीमा पर तारकपर्डी गांव के पास खाली जंगल में आज शव कार में जला हुआ मिला। जांच में सामने आया है कि शव महिला प्रधानाध्यापक कनिमोझी मुरुगामे का था। पुलिस ने महिला प्रिंसिपल की हत्या के मामले में सावन पटेल को गिरफ्तार कर लिया है और आगे की जांच कर रही है।
सूत्रों के मुताबिक कॉलेज तक पढ़ाई करने वाला सावन पटेल एक निजी बैंक में काम करता था। अभी एक साल पहले उन्होंने दमन नर्सिंग कॉलेज में बतौर अकाउंटेंट ज्वाइन किया था। सूत्रों के मुताबिक आरोपी सावन की दो महीने पहले शादी हुई थी। वहीं मृतक कनिमोझी अरुमुधम 15 साल से अधिक समय से सेलवास सिविल अस्पताल में कार्यरत थी। एक साल पहले ही उनकी  दमन को कॉलेज ऑफ नर्सिंग में प्रिंसिपल के पद पर पदोन्नत हुई थी। मृतक के पति मणिरमन और दो बच्चे उनके गृहनगर पांडिचेरी में रहते थे। मृतक महिला के पति ने कहा कि कनिमोझी दोनों बच्चों से बहुत प्यार करती थी और उनका पालन-पोषण करती थी, हालांकि घटना की जानकारी होने पर मृतका का पति सेलवास आ गए।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें