वडोदरा : सतर्कता, जागरूकता के साथ एड्स निर्मूलन की ओर कदम बढ़ाएं

सतर्कता एवं जागरुकता के साथ एड्स को समाप्त करने की दिशा में आगे बढ़ने का कलेक्टर ने किया अनुरोध

विश्व एड्स दिवस के अवसर पर जिला कलेक्टर की अध्यक्षता में बैठक

 जिला कलेक्टर  मनोज दक्षिणि ने एचआईवी एवं एड्स के संदर्भ में लोगों को तथ्य के साथ सही मार्गदर्शन, एचआइवी टेस्टिंग  परामर्श, उपचार और स्वीकृति के लिए केंद्र और राज्य सरकारों सहित विभिन्न संगठनों द्वारा किए जा रहे विशेष प्रयासों के साथ, देश से इस बीमारी को जल्द से जल्द खत्म करने की दिशा में आगे बढ़ने का अनुरोध किया। आज विश्व एड्स दिवस के अवसर पर जिला कलेक्टर  मनोज दक्षिणा की अध्यक्षता में जिला समाहरणालय में बैठक का आयोजन किया गया। इस बैठक में जिला विकास अधिकारी डॉ. बी.जी. प्रजापति, मुख्य जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. एम. टी. छारी, एनपी प्लस के अध्यक्ष रूपलबेन पटेल, परियोजना समन्वयक अजयभाई भोई आदि इस बैठक में उपस्थित थे। समाज के डर के कारण एचआईवी हालांकि अन्य बीमारियों की तरह घातक नहीं, लोग इलाज के लिए आगे आने के लिए अनिच्छुक थे, लेकिन विभिन्न सरकारी विभागों और सामाजिक संगठनों के प्रयासों से जागरूकता बढ़ी है। बैठक के दौरान जिला कलेक्टर दक्षिणि ने कहा कि व्यापक एड्स जागरूकता कार्यक्रम आयोजित कर चिकित्सा सहायता की चर्चा कर प्रशासन से आवश्यक सहयोग मांगा जायेगा। मुख्य जिला स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. इस तरह एम. टी. छारी को आनंद सिविल अस्पताल सहित नडियाद और वडोदरा में एचआईवी होने का पता चला है। खंभात और पेटलाड अस्पतालों को संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए एंटी रेट्रो वायरल ट्रीटमेंट (एआरटी) सेंटर से जोड़ा गया है। यहां कई मरीजों का इलाज किया जा चुका है। वर्तमान में वे सामान्य जीवन जी रहे हैं। वर्तमान में जिले में कुल 2850 मरीज हैं। जिसमें से आनंद एआरटी केंद्र में इलाज के लिए 1063 पंजीकृत हैं। जबकि 1031 ए.आर.टी. इलाज कराने की जानकारी दी। जबकि वर्ष 2019-20 के दौरान जिला के 606 मरीजों को रु. 14.73 लाख की सहायता चुकाया गया। वर्ष 2021-22 में 18.6 लाख रुपये की सहायता एवं 100 रोगियों को सहायता राशि का भुगतान किया गया है। इस अवसर पर जिला कलेक्टर मनोज दक्षिणि, जिला विकास अधिकारी बी. जी. प्रजापत को  विश्व एड्स दिवस के उपलक्ष्य में विश्व एड्स का लोगो समान रिबन भेंट किया गया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें