वेक्सीन ग्राउंड सामूहिक दुष्कर्म : गृह विभाग के आदेश से एसआईटी का गठन

प्रतिकात्मक तस्वीर

नवसारी की युवती ने सामूहिक दुष्कर्म के बाद ट्रेन में आत्महत्या की थी

शहर के वेक्सीन ग्राउंड में 19 वर्षीय युवती पर हुए सामूहिक दुष्कर्म के मामले में आखिरकार गृहविभाग के आदेश से 18 दिनों के बाद एसआईटी का गठन किया गया। एसआईटी में एक आईजीपी, दो एसपी, दो डीवायएसपी, तीन पीआई और एक पीएसआई शामिल है। जांच सीआईडी क्राइम एन्ड रेलवे के आईजीपी सुभाष त्रिवेदी के सुपरविजन में होगी।
मूल नवसारी की 19 वर्षीय युवती रेसकोर्स के सालीन कॉम्पलेक्स में स्थित ओएसिस संस्था में फिलोसोफी का कोर्स कर रही थी।
पिछले 29 अक्टूबर को देर शाम युवती साइकिल लेकर जूना पादरा रोड पर स्थित जगदीश फरसाण की गली से गुजर रही थी, तब दो बदमाशों ने उसका अपहरण करके निकट के वेक्सीन ग्राउंड पर सूनसान जगह ले गए। इसके बाद दोनों ने युवती पर सामूहिक दुष्कर्म किया। इस घटना के बाद एक निजी बस के ड्राइवर की मदद से पीडि़त युवती संस्था के मेंटर वैष्णवी टपनिया के पास  पहुंची थी। इसके बाद 31 को युवती को उसके घर नवसारी भेजा गया। युवती के साथ हुई घटना से वह मानसिक तौरपर टूट गई थी। उसने 3 नवंबर को देर रात वलसाड रेलवे यार्ड में गुजरात क्वीन ट्रेन के कोच में फांसी लगा ली थी।
घटना के 13 दिन बाद 17 नवंबर को वलसाड रेलवे पुलिस थाने में सरकार की तरफ से बदमाशों के खिलाफ सामूहिक दुष्कर्म  और आत्महत्या की दुष्प्रेरणा देने का मामला दर्ज किया गया। इस घटना में सूरत, वडोदरा, अहमदाबाद, वलसाड, नवसारी और रेलवे पुलिस जांच कर रही है। हालांकि 19 दिन बाद भी आरोपी का कोई सुराग हाथ नहीं लगा है। जिसके कारण आखिरकार राज्य सरकार के गृह विभाग के आदेश से डीजीपी आशीष भाटिया द्वारा स्पेशल इन्वेस्टीगेशन टीम का गठन किया गया।
जिसमें सीआईडी क्राइम एन्ड रेलवे आईजीपी सुभाष त्रिवेदी, वडोदरा रेलवे पुलिस के इंचार्ज एसपी परीक्षीता राठोड, वडोदरा डीसीपी क्राइम जयदीपसिंह जाडेजा, सूरत रेलवे डीवायएसपी बी.एस.जादव, वडोदरा रेलवे डीवायएसपी एम.ए.चौधरी, वडोदरा रेलवे पीआई एस.बी.जाडेजा, सूरत रेलवे पीआई के.आर.चौधरी, वडोदरा रेलवे एलसीबी के पीआई उत्सव बारोट और वलसाड रेलवे पीएसआई जे.बी.व्यास शामिल है।
राजस्व और कानून मंत्री राजेंद्र त्रिवेदी ने बताया कि शहर में बेटी के साथ घटी गंभीर घटना निदयनीय है। पुलिस इसकी जांच कर रही है। गृहमंत्री ने भी सख्त कदम उठाने के निर्देश दिए है। इस केस में आरोपियों के पकड़े जाने के बाद केस जल्दी चले और विशेष सरकारी अधिवक्ता की नियुक्ति हो ऐसे प्रयास करेंगे। युवती को न्याय दिलाने के लिए आरोपियों को फांसी की सजा हो इसके लिए सरकार कदम उठाएंगी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें