इस व्यक्ति ने खुद को बताया भगवान विष्णु का कल्कि अवतार, प्रधानमंत्री मोदी को बताया अर्जुन का अवतार

20 सालों से तपस्या कर ला रहे है बारिश, सभी अकालों को खुद रोका

पिछले काफी समय से गुजरात में बारिश रुकी हुई है। बारिश के मौसम के आने के बाद भी अभी तक अपेक्षा अनुसार बारिश नहीं हुई है। ऐसे में पानी सप्लाई विभाग के पूर्व कर्मचारी रमेश फेफर फिर से एक बार विवादों में आये है। रमेश ने खुद को भगवान विष्णु का दसवां अवतार बताया है और उन्होंने ही इस साल बारिश रोक कर रखी है, ऐसी जानकारी दी। 
रमेश फेफर ने सरकार को एक पत्र लिखकर मांग की है कि वह सरकार से उनके एक साल का बाकी पगार और ग्रेज्युटी के रकम की मांग करते है। यदि उनकी बाकी पगार का 16 लाख और ग्रेज्युटी के 16 लाख सरकार नहीं देती है तो वह भयंकर बारिश और हिमवर्षा करवाएँगे। वह खुद भगवान विष्णु के कल्कि अवतार है और उनकी तपस्या से ही पिछले 20 साल से भारत में लगातार अच्छी बारिश हुई है। 
रमेश ने खुद को कल्कि अवतार बताते हुये कहा कि वह भगवान विष्णु के दसवें अवतार है। पिछले नवंबर से जगदंबा ने ही उन्हें पृथ्वीलोक का चार्ज दिया है। उन्होंने अपने इस जन्म में राम अवतार से भी लाख गुना पीड़ा सहन की है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि इस साल वह बारिश गिराने ही नहीं वाले है। पिछले 20 साल से उन्होंने ही तपस्या कर के पूरे भारत में अच्छी बारिश करवाई थी और सभी अकाल भी रोके थे। कोरोना उनका ही सुदर्शन चक्र है, जिसे दुनिया में विज्ञान सहित कोई भी थेरपी रोक नहीं सकती। 
रमेश ने प्रधानमंत्री मोदी को अर्जुन का अवतार बताते हुये कहा कि इस विनाश में मात्र 33 करोड़ देवी देवता के अंश ही पृथ्वी पर बछेगे। जबकि बाकी के साढ़े सात अरब राक्षसों कि साल 2030 तक मृत्यु हो जाएगी। इसके अलावा जो भगवान कि शरण में होगा वही बच पाएगा। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें