2 महीनों से लगातार बढ़ रहा था युवक का पेट, सामने आई हैरान कर देने वाली सच्चाई

(Photo Credit : trishulnews.com)

आज के समय में जब तकनीक अतिआधुनिक हो चुकी है, बड़ी से बड़ी बीमारी का इलाज किया जा सकता है। अतिआधुनिक समय में बीमारी की शुरूआत में ही उसे पहचानकर दूर कर दिया जाता है। हालांकि इसके बाद भी कई बार आधुनिक मशीनें भी बीमारी को पहचानने में निष्फल रहती है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण सामने आया है पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता से। जहां एक व्यक्ति के पेट में से करीब 10 किलो की गांठ दूर की गई थी। कोलकाता की लायन्स अस्पताल में चार घंटो के दौरान हुये इस ऑपरेशन में डॉक्टर व्यक्ति की जान बचाने में सफल रहे थे। 
विस्तृत जानकारी के अनुसार, कोलकाता के 45 वर्षीय अर्णब मुखर्जी पिछले दो महीने से अधिक समय से पेट में दर्द की शिकायत से परेशान थे। उनका दावा है की ऑपरेशन के दौरान जो कैंसर की गांठ दूर की गई उसे ढूँढने में डॉक्टर शुरुआती दौर में निष्फल रहे थे। इसके चलते ही उन्हें यह दिक्कत सहनी पड़ी। मूल रूप से संगीतकार अर्णब ने कहा कि पेट में दर्द कि शिकायत होने के बाद वह कोलकाता के विक्टोरिया मेडिकल सेंटर में गए। जहां उन्हें पता चला कि उनके पेट में जो गांठ है उसका कद काफी बढ़ चुका है। 
डॉक्टरों ने कहा कि गांठ का कद तकरीबन दो रग्बी के बोल जितना हो गया था। इसके चलते उन्हें लायन्स अस्पताल में भेजा गया था। जहां डॉ. माखन लाल सहा और उनकी टीम ने उनका सफल ऑपरेशन किया था। डॉक्टर ने बताया कि यह काफी दुर्लभ केस था। पहली बार तो गांठ मिली ही नहीं थी। इसके चलते कई तरह के परीक्षण किए गए। ऑपरेशन के समय मरीज की जान जोखिम में थी, क्योंकि गांठ का कद काफी बड़ा था। हालांकि दो सर्जनों की टीम ने उनकी गांठ को दूर करने में सफलता हासिल की। हालांकि इसके बाद भी अब अर्णब को काफी इलाज करवाना पड़ेगा। फिलहाल अर्णब की स्थिति काफी अच्छी है और वह हर दो से तीन दीन पर प्रवाही खाना ले पा रहे है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें