भरूच के युवक और अहमदाबाद की युवती की प्रेम कहानी का दुखद अंत, पति के जाने से पहले इस तरह गर्भवती हुई महिला

(Photo Credit ; pixabay.com)

स्पर्म लेने के 30 घंटे 15 मिनट बाद युवक ने अंतिम सांस

हमें फिल्मों और किताबों में सुखद अंत बहुत पसंद है। हम चाहते है कि हर कहानी का अंत सुखद हो पर असल जीवन में हर किसी की कहानी का अंत सुखद नहीं हो सकता। एक ऐसा ही मामला अहमदाबाद में देखने को मिला जहाँ अहमदाबाद की एक युवती की मृतशैया पर पड़े अपने पति द्वारा मां बनने की हसरत पूरी होने के कुछ ही घंटों बाद उसकी प्रेम कहानी को बहुत बड़ा झटका लगा। दरअसल शुक्राणु लेने के 20 घंटे बाद युवक ने दुनिया को अलविदा कह एक अंतहीन यात्रा पर निकल पड़ा। सात समंदर पार कनाडा में शुरू हुई प्रेम कहानी का अंत दुखद हुआ लेकिन कम से कम पति के जाने के साथ ही पत्नी को अपने पति की एक प्राकृतिक निशानी तो मिल गई।
जानकारी के अनुसार भरूच के युवक और अहमदाबाद की युवती की मुलाकात कनाडा में हुई थी। फिर दोनों को बीच प्यार हो गया। छह महीने पहले ही दोनों की शादी हुई थी। इस बीच कनाडा में युवक के पिता के बीमार होने की सूचना मिली थी। पिता की सेवा में लगे युवक कोरोना से संक्रमित हो गया। युवक को गंभीर हालत में शहर के रस्टलिंग अस्पताल ले जाया गया। जहां उसका इलाज शुरू हुआ। धीरे धीरे उसके शरीर के अंग एक के बाद एक ठीक से काम करना बंद कर रहे थे। डॉक्टरों ने उसे बचाने के लिए अंतिम समय में प्रयास किए पर हालात नाजुक बनी रही। इस दौरान युवक की पत्नी ने युवक से बच्चा पैदा करने की इच्छा जताई। जिसे पूरा करने में कानूनी मंजूरी आवश्यक थी। 
आपको बता दें कि युवक का स्पर्म लेने के लिए कोर्ट की मंजूरी लेने के लिए युवती ने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। जहाँ उच्च न्यायालय ने इस मामलों गंभीर मानते हुए इस मामले का आदेश जल्द सुना दिया और 20 तारीख को शाम 5:04 बजे अस्पताल के डॉक्टरों को इसके लिए मिला। जिसके बाद युवक का स्पर्म ले लिया। अब जब युवक की पत्नी गर्भवती होना चाहेगी तो वह उसके गर्भ में आरोपण की प्रक्रिया को अंजाम देगा। जिसे अस्पताल की दूसरी यूनिट के आईवीएफ सेंटर में रखा गया है। फिर 30 घंटे 15 मिनट बाद युवक ने अंतिम सांस ली। यहां तक कि जब युवक के शव को अस्पताल से ले जाया गया तो स्टाफ ने सजल नयन की प्रेम कहानी को याद करते हुए उसे अलविदा कहा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें