सूरतः मानसून की शुरुआत के साथ आम के रस के साथ खाने वाले खाजा की मांग बढ़ी

मानसून में लोग खाजा खाने के लिए उमड़ पड़ते हैं।

पिछले साल कोरोना के कारण सरसिया खाजा कारीगरों की कमी थी

अगर आप फलों के राजा आम के रस के साथ सुरती खाजा नहीं खाते हैं तो इसे केरिगालो नहीं कहा जाता है। असली सूरतियों में, यह कहावत लगभग 100 साल पुरानी है और जैसे ही मानसून शुरू होता है, स्वाद प्रिय सूरतियों की लंबी कतारें सरसिया खाजा के पारंपरिक विक्रेताओं के यहां दिखाई देती है। पिछले साल कोरोना के कारण सरसिया खाजा बनाने वाले कारीगरों की कमी थी, लेकिन इस साल  कारीगर पर्याप्त मिल रहे है, जिससे अब सूरती आम के रस के साथ सरसिया खाजा की दावत दे रहे हैं। सरसिया खाजा ने असली सूरती परिवारों में करीबी दोस्तों और रिश्तेदारों की देखभाल करने के मौसम को भी एक अनूठा स्वाद दिया है। आज आम, चॉकलेट, मिठाई लोगों की पहली पसंद कही जा सकती है।
 फरसाण विक्रेता हरीश कांजीभाई जोशी  ने कहा कि सूरत में बारिश शुरू होने के साथ ही असली सूरती परिवारों ने फरसान के दुकानदारों को विशेष सरसिया खाजा मंगवाना शुरू कर दिया है। भागल पर फ़ारसान के प्रसिद्ध विक्रेता का कहना है कि पिछले साल कोरोना के कारण मौसम फीका पड़ गया था लेकिन इस बार सूरती अच्छे मिजाजा में हैं और पहले सप्ताह में अच्छे ऑर्डर मिले हैं।
हरीशभाई ने आगे कहा कि उनकी फर्म उनके पूर्वजों के समय से ही सूरत में फरसान की एक पुरानी और प्रसिद्ध विक्रेता रही है। खाजा आज भी सूरत के लोगों की फेवरेट डिश है, खाजा की कीमत कोई और डिश नहीं ले सकता। आज 350 रुपये से लेकर  500 रुपए किलो खाजा बिक रहा है। आज भी मैदा से बनी डिश होने के बावजूद सूरत के लोग मानसून की शुरुआत में परिवार में खाजा खाने से नहीं चूकते।
हरीशभाई ने आगे कहा कि सूरत में पहली बारिश के साथ ही सरसिया खाजा आम के रस के साथ खाया जाता है। कई सूरती नाश्ते में खाजा के साथ एक्सपेरिमेंट भी कर रहे हैं। असली सूरती भी खाजा पर नीबू का रस खाने के शौकीन होते हैं और इसकी दावत में जरा भी देर नहीं करते । असल सूरती खाजा मैदा से बनाया जाता है और इसके स्वाद को आकर्षक बनाने के लिए इसमें काली मिर्च, जीरा, हल्दी, नमक आदि मिलाया जाता है।
हरीशभाई ने आगे कहा कि सरसिया खाजा को सूरतियों का नमकीन  व्यंजन माना जाता है लेकिन अब जैसे-जैसे सूरत की पीढ़ियां बदली हैं, इस व्यंजन में भी एक ट्विस्ट आ गया है और आजकल आम का खाजा, चॉकलेट खाजा, मीठा खाजा, खाजा जैसा साटा सौराष्ट्र में पाए जाने वाले आदि अलग-अलग हैं। खाजा भी अलग-अलग स्वादों में मिलता है। सूरत में बहुत से लोग आश्चर्यचकित हैं कि उन्होंने चारों खाजों के मीठे होने की कल्पना नहीं की थी, क्योंकि खाजों में मसालेदार, मसालेदार खाने में मज़ा आता है, लेकिन अब लोग मीठे खाजों की उतनी ही मांग कर रहे हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें