सूरत : भारत बंद को सफल बनाने कामरेज नेशनल हाईवे पर टायर जलाए, 25 से ज्यादा किसान हिरासत में

गुजरात किसान समन्वय समिति के संयोजक को ओलपाड में हिरासत में लिया गया

केंद्र सरकार के कृषि कानून  का किसान विरोध कर रहे हैं। पंजाब और उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश में किसान उग्र आंदोलन कर रहे हैं। जिसके तहत आज भारत बंद की भी घोषणा की गई। दक्षिण गुजरात में किसान लंबे समय से कृषि कानून का विरोध कर रहे हैं। आज विरोध करने पर  किसानों और नेताओं को ओलपाड पुलिस ने हिरासत में लिया। कामरेज निकट नेशनल हाईवे पर टायर जलाकर बंद को समर्थन करने पर किसानों को हिरासत में ले लिया। 
 देश की राजनीति किसानों के इर्द-गिर्द घूमती है। केंद्र सरकार के विरोध में कई राजनीतिक दल कृषि कानून का विरोध कर रहे हैं। दक्षिण गुजरात में किसान विरोध कर रहे हैं, उनका तर्क है कि कानून कई तरह से किसानों के लिए समस्या पैदा कर सकता है। पूर्व में भी पूरे दक्षिण गुजरात में किसान समुदाय द्वारा कानून पर कई कार्यक्रम किए गए।
किसान समाज के अध्यक्ष रमेश पटेल ने कहा कि संयुक्त किसान मोर्चा के माध्यम से गुजरात किसान समन्वय समिति गुजरात में भी बंद का पालन करेगी और गुजरात किसान समन्वय समिति के संयोजक जयेशभाई पटेल, सह-संयोजक डाहयाभाई गजेरा ने सभी सहकारी मंडली और एपीएमसी के प्रशासकों  को बंद में शामिल होने की अपील की। ये किसान विरोधी कानून सभी नागरिकों के साथ-साथ छोटे-बड़े व्यापारियों और मजदूरों को भी प्रभावित करेंगे। इसलिए सभी लोगों से इस बंद में शामिल होने की अपील की गई।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें