सूरतः-शहर-में-18+-युवकों-को-वैक्सीन-लगाने-की-शुरुआत-से-ही-सेन्टरों-पर-लाइन-लगी

स्वास्थ्य केन्द्र पर वैक्सीन लगवाने उमड़े युवा

टीका लेने के बाद कोई साइड एफेक्ट नहीं होने से तमाम लोग आगे आये और कोरोना को हराने का दृढ़ संकल्प व्यक्त किया

शनिवार 1 मई से  गुजरात के नामित जिले और शहर में 18 साल से अधिक उम्र के युवाओं के लिए भी कोरोना के खिलाफ टीकाकरण शुरू किया गया है।  सूरत शहर में बड़ी संख्या में युवाओं ने टीकाकरण कराने के लिए उत्साह दिखाया है। अहले सुबह से युवाओं ने टीकाकरण केंद्र के बाहर लाइन में खड़े दिखाई दिये।  जिन युवाओं ने पहले पंजीकरण कराया था, उन्होंने टीका लगाया और कहा  कि वे कोरोना को हराने के लिए आगे आए हैं। युवाओं ने आगे कहा कि टीके के कारण कोई दुष्प्रभाव नहीं हैं।
ऑनलाइन पंजीकरण के बाद, सूरत शहर के युवा शनिवार को टीका लगाने के लिए बहुत उत्साहित दिख रहे थे। ऐसे समय में जब सूरत में कोरोना संक्रमण बढ़ रहा है। युवा हाथ में पम्पलेट लेकर टीकाकरण केन्द्र पहुंचे, जिस पर लिखा था कि कोरोना को हराने का एकमात्र तरीका वैक्सीन लगवाना है। सूरत के वेसू इलाके में शांतम संस्थान के कोविड केंद्र में युवाओं को अपने हाथों में पम्पलेट के साथ टीकाकरण करते देखा गया।
केवल सूरत महानगर पालिका के सरकारी कोविड केंद्रों पर ही नहीं बल्कि निजी संस्थानों द्वारा भी जहां कोविड टीकाकरण केंद्र स्थापित किए गए हैं, वहां आज युवाओं की भीड़ देखने को मिली।  सूरत शहर के युवाओं ने कहा है कि कोविड को हराने के लिए टीकाकरण एकमात्र हथियार है। गुजरात में आज स्थापना दिवस पर  कोरोना का टीकाकरण शुरू हो गया है। 18 वर्ष से अधिक आयु के युवा टीकाकरण को लेकर बहुत उत्साहित हैं। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें