सूरत: कपड़ा बाजार की स्थिति नाजुक, मंदी के कारण खरीदा हुआ माल वापस भेज रहे हैं व्यापारी

सभी राज्यों से रोजाना करीब 3000 पार्सल लौट रहे हैं, पूरी स्थिति में ट्रांसपोर्ट की हालत खस्ता, बड़ी संख्या में पार्सल आने के साथ, अधिकांश परिवहन गोदाम भर गए हैं

सूरत के कपड़ा बाजार में फिलहाल मंदी का माहौल देखा जा रहा है। ऐसे में मंदी के कारण व्यापारियों के पास रिटर्न आने माल की मात्रा बढ़ गई है। शादी को देखते हुए अन्य राज्यों के व्यापारियों ने बड़ी मात्रा में साड़ियां और सामग्री खरीदी, लेकिन खुदरा बाजार में खरीदारी कम होने के कारण अन्य राज्यों के व्यापारियों ने सामान वापस कर दिया। साथ ही बड़ी संख्या में पार्सल आने के साथ, अधिकांश परिवहन गोदाम भर गए हैं और परिणामस्वरूप ट्रांसपोर्टरों के पास अब नए पार्सल रखने के लिए जगह नहीं है। दूसरी ओर सूरत के व्यापारियों का माल लौट रहा है। माल लेने से इंकार करने पर और पुराने माल को वापस करने के चक्कर में ट्रांसपोर्टरों की हालत खराब हो गई है।
कपड़ा उद्योग से जुड़े सूत्रों के मुताबिक कोरोना के बाद शादियों में अच्छे कारोबार की उम्मीद में अन्य राज्यों के व्यापारियों ने इस साल व्यापारियों को बड़े ऑर्डर दिए थे, लेकिन कई कारणों से साड़ी और ड्रेस दोनों सेगमेंट में खुदरा बाजार कमजोर रहा।  ऐसे में सभी राज्यों से रोजाना करीब 3000 पार्सल लौट रहे हैं।  दूसरे राज्यों के कुछ व्यापारी सूरत के व्यापारियों को बिना बताए माल वापस कर रहे हैं। हर दिन बड़ी संख्या में पार्सल लौटाए जाने से ट्रांसपोर्टरों के गोदाम भरे हुए हैं और अब नए पार्सल रखने के लिए जगह नहीं होने के कारण वे काफी संकट आ गया हैं। ट्रांसपोर्टरों का कहना है कि सूरत के ज्यादातर व्यापारी पार्सल लेने को भी तैयार नहीं हैं। इससे सूरत से जाने वाला पार्सल परिवहन में पड़े हैं।
इस बारे में एक सूरत के टेक्सटाइल ट्रांसपोर्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष ने बताया कि दूसरे राज्यों के व्यापारी दो महीने पहले खरीदे गए अधिकांश सामानों को वापस कर रहे हैं, इसका कारण ये है कि खुदरा बाजार में व्यापार उम्मीद के मुताबिक नहीं था।  रोजाना 3000 से ज्यादा पार्सल आने वाले गोदाम में नए पार्सल के लिए जगह नहीं है। सूरत के कुछ व्यापारी भी माल लेने से मना कर रहे हैं। चालू वर्ष में साड़ी और ड्रेस मटेरियल दोनों में खुदरा बाजार कमजोर रहा है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें