सूरत : वीडियो वायरल होते ही अतिक्रमण विभाग की कार्रवाई से लोगों में आक्रोश

अतिक्रमण अधिकारी और वहां मौजूद लोगों से दोनों हाथ जोड़कर गिड़गिड़ाता श्रमजीवी।

श्रमजीवी ने अधिकारियों का पैर पकड़ कहा साहब लारी मत ले जाइये, आज पहला दिन है, मेरे छोटे-छोटे बच्चे हैं

एक तरफ जहां कोरोना महामारी के चलते सभी की आर्थिक स्थिति दयनीय हो गई है। वहीं दूसरी ओर शहर में दबाव विभाग की दादागिरी चल रही है। एक बार की कमाई कर जीविकोपार्जन करने वाले श्रमजीवी अतिक्रमण विभाग की टीम गलत तरीके से परेशान कर रही है। ऐसा ही एक वीडियो सूरत में वायरल हो रहा। जिसमें एक मजदूर अधिकारी के पैर पकड़कर लॉरी नही ले जाने के लिए दोनों हाथ जोड़कर विनती यानी गिडगिड़ा रहा है। वह रोता रहा  लेकिन अधिकारी ने उसकी एक  नहीं सुनी और उसकी लॉरी उठा ले गये। 
कोरोना महामारी और सख्त नियंत्रण ने सभी वर्ग के लोगों को आर्थिक संकट में डाल दिया है। वहीं सूरत में विभिन्न नियमों के तहत सड़क के किनारे तथा लारी चलाकर  सब्जी बेचने वाले लोगों को परेशान किया जा रहा है। इससे पहले भी इसको लेकर मारपीट के कई वीडियो सामने आ चुके हैं। फिर एक और वीडियो आया। सूरत के लिंबायत-डिंडोली इलाके में दबाव विभाग की टीम ने एक मजदूर की लॉरी को उठा लिया गया है। 
मजदूर ने लॉरी पकड़ ली और  लॉरी न लेने की भीख मांगता रहा। लेकिन अधिकारी के साथ रहे उनके आद‌मियों ने नियमतः दादागिरी की थी।  इतना ही नहीं, मजदूर अधिकारी और वहां मौजूद लोग का हाथ-पैर पकड़कर कहता रहा कि, ''सर, मेरे दो बच्चे हैं और आज कारोबार का पहला दिन है। मैं ऐसी गलती नहीं करूंगा. मुझे जाने दो.'' लेकिन अधिकारी ने उसकी एक भी नहीं सुनी और उसकी लॉरी उठा ली। यह वीडियो वायरल हो गया है, जिससे लोगों में आक्रोश है।
सूरत में सब्जी और फल बेचने वाले मजदूर रोजी-रोटी कमाते हैं और अपने परिवार का पेट पालते हैं। लेकिन सूरत में दबाव विभाग की टीम ने दबाव के नाम पर उनकी लॉरियों को जब्त कर लेती है।  इस तरह की कई घटनाएं सूरत में हो चुकी हैं और सूरत में पहले भी ऐसी बार-बार होने वाली घटनाओं को लेकर विरोध प्रदर्शन हो चुके हैं और अधिकारियों से झड़प भी हो चुकी है। लेकिन इस वीडियो के वायरल होने से लोगों में आक्रोश फैल रहा है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें