सूरतः नशे के आदी युवक को माता-पिता ने बांधकर 108 में सिविल अस्पताल लाये, जानें क्या है माजरा

नशेड़ी युवक को माता-पिता ने बांधकर सिविल अस्पताल लाये

युवक नग्न होकर महिला के पीछे भागता था, परिजन हो गये थे परेशान

रोज़गार के लिए सूरत आये और गांजा पीने का आदी हुए बेटे को सड़क पर नग्न होकर महिलाओं के पीछे भागते देखकर माता-पिता का कलेजा फट गया। माता-पिता एक महीने के लिए एकलौते बेटे के यहां रहने कोलकाता से सूरत आये थे।  लेकिन सूरत में वह गांजा का आदी हो गया। क्या हाल हो गया है,आज वह शिक्षित होने के बावजूद  होश खोकर बुरा कृत्य कर रहा है। मेरा बेटा ऐसला नहीं था, ऐसा कोलकाता से आए बुजुर्ग माता-पिता की व्यथा सुनकर सिविल के डॉक्टरों को भी यह सोचने पर मजबूर कर दिया। माता-पिता को ही बेटे को कमरे में बंद करने की जरुरत पड़ी। इसके बाद हाथ पैर बांधकर अस्पताल ले जाया गया।
108 कर्मचारियों ने कहा कि शनिवार को कॉल आया कि एक मानसिक रुप से बीमार युवक घर में बवाल मचा रहा है। कॉल मिलते ही तत्काल पहुंच गये, जहां वृद्ध माता-पिता ने पुत्र को रुम में बंद कर रखा था। जैसे-तैसे रुम का दरवाजा खोला और समझा कर युवक को स्ट्रेचर  सुला दिया। इसके बाद पैर बांधकर नीचे उतार दिया और नई सिविल अस्पताल ले आया। पूरे रास्ते उसने परेसासन करता रहा, जिससे दुःख हो रहा था। युवक नशा का आदी है और बड़े पैमाने पर गांजा का सेवन करता था। लॉकडाउन के कारण गांजा नहीं मिलने पर उसकी हालत ऐसी हो गई है। उल्लेखनीय है कि एकलौते पुत्र की ऐसी हालत देखकर कोलकाता से आये माता-पिता रोने को मजबूर हो जाते हैं। 
वृद्ध पिता ने कहा कि मेरा बेटा सूरत में अपने दोस्तों के साथ रहकर नशेड़ी बन गया। हमारा एक ही सहारा है, साहब, हम तो एक महीने के लिए बेटे पास रहने आए थे। यहां तो तस्वीर ही कुछ अलग है, यह क्या हाल बना दिया बेटे ने, कहकर अपनी व्यथा व्यक्त करने से डॉक्टरों ने भी विचार में पड़ गये। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें