सूरतः दूसरे चरण के पहले दिन उमरा क्षेत्र के 235 नागरिकों को कोविशील्ड का टीका लगाया गया

उमरा सामुदायिक भवन में टीकाकरण किया गया।

कोरोना के खिलाफ टीका ही रामबाण इलाज : सलोनी मेहता

सोमवार  से शुरू हुए कोरोना महामारी के खिलाफ टीकाकरण के दूसरे चरण के पहले दिन सूरत शहर के उमरा क्षेत्र के 235 नागरिकों ने कोविशील्ड वैक्सीन लेकर अपने धर्म का पालन किया है। सूरत नगर निगम द्वारा उमरा कम्युनिटी हॉल में टीकाकरण का आयोजन किया गया था।
उमरा कम्युनिटी हॉल में सोमवार को दोपहर 2.30 बजे तक 235 नागरिकों ने ऑनलाइन पंजीकरण कर कोरोना का टीका लगाया । वेसू की सलोनी मेहता ने पहली खुराक लेते हुए कहा कि कोरोना के खिलाफ टीका ही एकमात्र रामबाण  इलाज है। वे आगे बताती हैं कि बिना वैक्सीन के कोरोना से संक्रमित होने पर 80 से 90 फीसदी फेफड़े खराब हो जाते हैं। अगर वैक्सीन के बाद भी कोरोना होता है, तो भी फेफड़ों को कोई बड़ा नुकसान नहीं होता है।
वैक्सीन की पहली खुराक लेने वाले विश्व शाह का कहना है कि महामारी से उबरने का एकमात्र तरीका टीकाकरण है। "मेरे माता-पिता ने टीके की दोनों खुराक ले ली हैं।  भूमि देसाई के अनुसार, 1 मार्च 2021 से अब तक कुल 8927 लाभार्थियों ने उमरा सामुदायिक भवन में टीकाकरण का लाभ उठाया है। वर्तमान में प्रत्येक लाभार्थी को ऑनलाइन पंजीकरण के माध्यम से एक घंटे के स्लॉट के माध्यम से बुलाया जा रहा है। ताकि टीकाकरण केंद्र पर भीड़ न हो और सामाजिक दूरी का पालन हो सके। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें