सूरत : 7वें वेतन आयोग का बकाया भुगतान नहीं करने पर जिला कलेक्टर से पेशकश

शहर एवं जिला उच्चतर माध्यमिक शिक्षक संघ ने कलेक्टर से पेशकश की

शहर एवं जिला उच्चतर माध्यमिक शिक्षक संघ ने कहा कि लंबित मुद्दों का समाधान नहीं हुआ तो आंदोलन के लिए बाध्य होंगे

हायर सेकेंडरी स्कूल के शिक्षकों और कर्मचारियों द्वारा कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों को लेकर सूरत जिला कलेक्टर को एक आवेदन प्रस्तुत किया गया था। जिसमें उनके कई सवालों का समाधान अभी तक नहीं हो पाया है। पांच साल की निश्चित वेतन वाली नौकरियों को एक पंक्ति में पेश किया गया था। सातवें वेतन आयोग का बकाया भुगतान नहीं किया गया है, जबकि पांच सप्ताह के भीतर भुगतान करने की घोषणा की गई है।
उन्होंने उच्च माध्यमिक शिक्षा संघ के कर्मचारियों द्वारा हो रही विभिन्न विसंगतियों पर भी दुख व्यक्त किया। सरकार शिक्षा विभाग के परिपत्र में बिना शर्त अधिशेष कार्य के संरक्षण के परिपत्र में विसंगतियों और आपत्तिजनक मुद्दों को समय-समय पर लिखित और समय-समय पर दूर करने की मांग करती रही है लेकिन इसे हटाया नहीं गया है। सी.पी. एफ और बढ़ी हुई पेंशन योजना को खत्म करने और जीपीएफ और पुरानी पेंशन योजना को लागू करने का प्रस्ताव किया गया है।
सूरत सिटी सेकेंडरी टीचर्स यूनियन के अध्यक्ष रसिक झांझमेरा ने कहा कि हमारी मांगों को सरकार ने अभी तक पूरा नहीं किया है। पूरे राज्य में हमारे 36 अलग-अलग घटक हैं, जिनमें से सभी को आज के लिए लागू किया गया है। आने वाले दिनों में हम सभी कलेक्टर कार्यालयों के बाहर सांकेतिक धरना देंगे और हमारी मांग का समाधान नहीं होने पर  गांधीनगर सत्याग्रह शिविर में भी धरना देंगे।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें