सूरतः रमजान के महीने में भीड़ को इकट्ठा होने से रोकने के लिए नगर आयुक्त ने मुस्लिम नेताओं के साथ बैठक की

मनपा आयुक्त ने मुस्लिम अग्रणियों के साथ बैठक की

कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए रमज़ान के दौरान मनपा आयुक्त ने सतर्क रहने की अपील की

रमजान के दौरान सूरत शहर में रहने वाले मुस्लिम समुदाय को उनकी सुरक्षा के लिए उन्हें सतर्क करने के लिए पालिका में एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित की गई थी। जिसमें  रमजान  मास होने से मुस्लिम क्षेत्र में कई स्थानों पर बहुत भीड़ होने को लेकर मनपा आयुक्त ने चिंता व्यक्त की।  मुस्लिम समुदाय के नेताओं से अपील की गई कि वे भीड़ जमा करके संक्रमण को न बढ़ाएं और अपनी जान जोखिम में न डालें।
 रमजान मास होने के कारण मस्लिम भाई शाम के समय अलग-अलग क्षेत्रों में  नमाज से पहले और बाद में एकत्रित हो रहे हैं। सूरत के कुछ इलाकों जैसे नवसारी बाज़ार, कमाल गली, लिंबायत में मदीना मस्जिद, रांदेर, सलाबतपुरा में शाम के समय बहुत भीड़ होती है। कोरोना का संक्रमण पूरे शहर में बढ़ रहा है। जिससे पालिका लोगों को भीड़ इकट्ठा न करने के लिए समझाने  की लगातार कोशिश कर रहा है। लेकिन जिस तरह से माहौल देखा जा रहा है। तब कुछ खास वर्ग के लोग इसकी गंभीरता को नहीं समझ रहे हैं। इसलिए पालिका  ने व्यापक चर्चा के लिए उनके समाज के अग्रणियों के साथ विसतृत रुप से विचार-विमर्श किया। 
टीका के बारे में मुस्लिम समुदाय में कोई जागरूकता नहीं है। बहुत कम लोगों ने वैक्सीन ली है। टीकों को लेकर मुस्लिम समाज में प्रचलित मानसिकता इसके लिए जिम्मेदार है। उनके समुदाय के लोगों ने मुस्लिम समुदाय के कुछ नेताओं से अपील की थी कि वे जल्दी से जल्दी टीका लगवाएं। लेकिन अभी तक जो गंभीरता और जागरूकता आनी चाहिए थी, उसमें कमी देकी जा रही है।
मनपा आयुक्त बंच्छानिधि पाणि ने कहा कि स्थिति बहुत गंभीर है। कुछ लोगों का मानना ​​है कि कोरोना जैसी कोई चीज नहीं है, लेकिन इस मानसिकता से बाहर निकलने की जरूरत है। जिन लोगों का कोरोना रिपोर्ट पॉजीटिव आया है, वे लोग गंभीरता को समझते हैं। शाम को नवसारी बाज़ार, रांदेर इलाके में,  लिम्बायत के मदीना मस्जिद इलाके में  शाम को खाने के स्टाल पर बाज़ार भर जाता है।  ज्यादातर लोग मास्क भी नहीं पहनते हैं, जो बहुत ही गंभीर मामला है। कोरोना संक्रमण का दूसरा चरण इतना गंभीर है, जिससे हमें सावधान रहने की जरूरत है, हमें सतर्क रहने की जरूरत है। ताकि हम कोरोना संक्रमण के शिकार न हों और हमारे माध्यम से किसी और को संक्रमित करें।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें