सूरत : चौदह साल की नाबालिक को प्रेम जाल में फंसकर किया गर्भवती, अब खानी पड़ेगी जेल की हवा

किशोरी की शिकायत के आधार पर पुलिस ने आगे की जांच शुरू कर दी है (प्रतीकात्मक फाइल फोटो)

पांच महीने से बच्ची को मासिक ना आने पर स्मीमेर में हुई जाँच में सामने आया मामला

सूरत के गोडादरा में एक चौंकाने वाला मामला सामने आया है जहाँ एक युवक ने 14 साल की नाबालिग को प्रेम जाल में फंसा कर गर्भवती बना दिया। पुलिस ने अपराधी के खिलाफ मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

क्या है पूरा मामला


मामले में मिली जानकारी के अनुसार 40 वर्षीय मीनाबेन (बदला हुआ नाम) शहर में गोडादरा विस्तार में रहती है और मजदूरी का काम करती है। महिला को पहले पति से 3 बेटियां और 2 बेटे हैं। अपने पहले पति से तलाक लेने के बाद उसने दूसरी शादी कर ली। मीनाबेन के बच्चे अपनी दादी के साथ रहते हैं। उनकी 14 साल की बेटी 7 साल तक पढ़ाई करने के बाद मजदूरी का काम करती है। जब नाबालिग मजदूर काम पर जाती थी उस दौरान उसकी मुलाकात मितेश गमीत नाम के एक युवक से हुई, जो पर्वतपाटिया गांव के हलपतिवास में रहता था। मितेश सगीरा उस बच्ची के साथ ही काम करता था। इसी दौरान उसने नाबालिग को प्रेम जाल में फंसा कर उसके साथ शारीरिक संबंध स्थापित और उसे गर्भवती बना दिया।

अरोपी के साथ ही उसके घर रहती थी पीड़िता


दरअसल की किशोरी को उसकी माता पिता ने पांच साल पूर्व छोड़ दिया था। पहले उसके पिता माता को छोड़ दिया और किसी और महिला के साथ रहने चला गया। उसके बाद उसकी माता भी उसे छोड़ कर किसी और व्यक्ति के साथ रहने चली गई। माता पिता के जाने के बाद बेसहारा हुई किशोरी को मितेश ने अपने घर में शरण दी थी। फिर मितेश ने उसे अपने प्रेम जाल में फंसाया। उसे शादी का वादा कर उसके साथ बलात्कार किया। इस बीच, नाबालिग को पिछले अप्रैल से मासिक धर्म नहीं हो रहा था। स्मीमेर अस्पताल में आवश्यक चिकित्सकीय उपचार के बाद सोनोग्राफी रिपोर्ट की गई। जिसमें वह पांच माह की गर्भवती होने की पुष्टि हुई थी। जब डॉक्टरों ने नाबालिक से उसके परिवार की मौजूदगी में इस बारे में पूछा तो उसने मितेश के बारे में सारी जानकारी दी और बताया कैसे वो उसके साथ शारीरिक संबंध बनाया करता था। 

पुलिस ने हिरासत में लिया


इसके बाद पूरा मामला पुलिस तक पहुंच गया। गोडादरा पुलिस ने पीड़िता की मां की शिकायत के आधार पर मितेश मुकेश गमेत को दुष्कर्म व पॉक्सो की धारा के तहत गिरफ्तार कर लिया है।

(यौन उत्पीड़न के मामलों में सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देशों के अनुरूप पीड़िता की निजता का सम्मान करते हुए उनकी पहचान उजागर नहीं की गई है।)

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें