सूरत : वीर सावरकर आवास में बाढ़, बारडोली में स्वामीनारायण मंदिर के पास गिरा नीम का विशाल पेड़

बारडोली में गिरा बड़ा पेड़

सूरत में वीर सावरकर आवास में बाढ़ , वाहन चालकों के लिए वाहन पार करना मुश्किल हो जाता है

सूरत जिले के बारडोली पंथ में तेज हवा के साथ बारिश हुई
मौसम विभाग के अनुसार सूरत जिले में सुबह से ही भारी बारिश हो रही है। बारडोली जिले में तेज हवाओं के साथ बारिश हुई। सूरत शहर के अलग-अलग इलाकों में भौहें गिरीं। वीर सावरकर आवास रिहायशी इलाके के अंदर जलभराव का नजारा देखने को मिल। 
ऐसी ही स्थिति हर साल मानसून के दौरान आवास में उत्पन्न होती है। हल्की बारिश भी एक फुट से अधिक पानी भर सकती है। सूरत शहर में 3 से 4 इंच बारिश होने से स्थिति बहुत ही दयनीय हो जाती है। वाहन चालकों के लिए वाहन पार करना मुश्किल हो जाता है। 
सूरत में भारी बारिश से निचले इलाकों में पानी भर गया है
दो दिन के ब्रेक के बाद सूरत जिले के बारडोली पंथ में आज सुबह से ही बारिश का दौर जारी है। मेघराजा की धूंआधार बल्लेबाजी के बाद शहर में यातायात भी प्रभावित हुआ है। एक तरफ तेज बारिश हो रही थी। फिर मुख्य सड़क पर पेड़ गिरने की घटनाएं हो रही हैं। यह घटना बारडोली कस्बे के मुदित पैलेस को शास्त्री रोड से जोड़ने वाली सड़क पर भारी बारिश के बाद हुई। जहां स्वामीनारायण मंदिर के पास एक विशाल नीम का पेड़ गिरा। पेड़ टूटकर मेन रोड पर गिर गया। मुख्य मार्ग पर पेड़ गिरने से एकतरफा यातायात बाधित हो गया। हालांकि, जैसे ही पेड़ गिरा, उस क्षेत्र में बिजली आपूर्ति भी बाधित हो गई जहां पेड़ से सटे विगनेट्स गिरे थे। गनीमत यह रही कि पेड़ गिरने के समय कोई वाहन वहां से नहीं गुजर रहा था इसलिए किसी के हताहत होने की खबर नहीं है।
सूरत समेत दक्षिण गुजरात के हालात चिंताजनक नहीं हैं। सभी जिलों के तालुका अधिकारियों के साथ एक समन्वय बैठक भी हुई है। प्रत्येक तालुका के ग्राम सरपंच के साथ बैठकें भी की गई हैं और निर्देश दिए गए हैं कि बाढ़ जैसी स्थिति के लिए कैसे सतर्क रहें और साथ ही नदी के किनारे के गांवों को सतर्क कर दिया गया है। उकाई बांध समेत जिले में जलाशयों के स्तर पर चौबीसों घंटे नजर रखी जा रही है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें