सूरत : तक्षशिला अग्निकांड के नायक जतिन से मिले सीआर पाटिल, हरसंभव मदद की घोषणा की

अपने जान पर खेलते हुए एक के बाद एक 15 बच्चों की जान बचाई थी जतिन ने, परिवार आर्थिक तंगी से गुजर रहा

सूरत में तक्षशिला आगकांड को तीन साल पुरे हो चुके है पर आज भी उस घटना का जिक्र हमें असहज कर देता हैं। इस अग्निकांड में कई माता-पिता ने अपने लाल खो दिए थे। पर इस समय एक आदमी था जिसने अपने जान पर खेलते हुए एक के बाद एक 15 बच्चों की जान बचाई। अग्निकांड के नायक जतिन नकरानी की हालत आज तीन साल बाद भी फिलहाल गंभीर बनी हुई है। आग में बच्चों की जान बचाने वाले जतिन नकरानी कोमा में चले गए। दो महीने तक कोमा में रहने के बाद जतिन अब कोमा से बाहर हैं, हालांकि जतिन अभी भी लकवा से पीड़ित हैं। जतिन नकरानी और उनका परिवार आर्थिक तंगी से गुजर रहा है। जतिन नाकरानी पर 42 लाख रुपये का कर्ज है, लेकिन बड़ा सवाल यह है कि लकवा होने पर कर्ज कैसे चुकाया जाए। जतिन नकरानी के परिवार ने लोगों से इसमें मदद करने की अपील की है।
इस बीच गुजरात भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष और नवसारी के सांसद सीआर पाटिल बजरंग नगर में जतिन नकरानी के घर गए और उनसे और उनके परिवार से मिलने गए। इस बीच सूरत बीजेपी ने जतिन के परिवार को 5 लाख रुपये दिए थे। सीआर पाटिल द्वारा यह भी घोषणा की गई कि जतिन के ऑपरेशन के सभी खर्चों के लिए सहायता प्रदान की जाएगी।
सीआईडी फैशन डिजाइनर के निदेशक जतिन नकरानी ने तक्षशिला आग में नायक की तरह 15 बच्चों की जान बचाई। घटना में अपनी जान बचाने के लिए जतिन दूसरी मंजिल से कूद गए थे, जिससे उनके सर में भारी चोट लगा और मस्तिष्क की चोट के कारण जतिन की याददाश्त चली गई। कूदते समय जतिन का हाथ भी टूट गया। इसके बाद उन्हें इलाज के लिए ले जाया गया।
गौरतलब है कि 24 मई 2019 को सूरत के तक्षशिला भवन में आग लग गई थी। जिसमें 22 छात्रों की जान चली गई। जान बचाने के लिए कई छात्रों ने इमारत की चौथी मंजिल से छलांग लगा दी थी।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें