सूरत : 8 वीं पास कारखाना मालिक ने शुरू किया क्लब, सीखने के बाद अभिभावक बच्चों को पढ़ाते हैं अंग्रेजी

द इंग्लिश क्लब के माध्यम से ऑनलाइन नि:शुल्क शिक्षा प्रदान किया

द इंग्लिश क्लब के माध्यम से ऑनलाइन नि:शुल्क शिक्षा प्रदान करने का कार्य अभिभावकों द्वारा शुरू किया गया था

कुछ अभिभावकों द्वारा द इंग्लिश क्लब के माध्यम से मुफ्त शिक्षा प्रदान करने का कार्य शुरू किया गया है। जूम एप्लिकेशन के माध्यम से अंग्रेजी क्लब छात्रों, पुलिस, पत्रकारों, अधिवक्ताओं, व्यापारियों और गृहिणियों, नौकरी चाहने वालों, बुजुर्गों आदि को मुफ्त में अंग्रेजी पढ़ाता है। द इंग्लिश क्लब का विचार सूरत के एक आठ-पास कारखाना मालिक जिग्नेश वाटलिया को आया, जब उन्हें अपने बच्चों को पढ़ाने में कठिनाई हुई और उनके दोस्तों को लगा कि वे भी इसी तरह की स्थिति का सामना कर रहे हैं। सभी लोगों ने मिलकर तय किया कि हम अंग्रेजी सिखेंगे और लोगों को भी सिखाएंगे। धीरे-धीरे लोग द इंग्लिश क्लब में शामिल होने लगे। आज इस काम में 15 से ज्यादा लोगों की टीम लगी हुई है।
टीम में अजय रादडिया और जिग्नेश वाटलिया के अलावा शिक्षा समिति के सदस्य राकेश हिरपारा, जयेश गोलकिया, अश्विन बलर, सतीश चिन्नादुरई, संजय केवडिया, राजेश कारसरिया, धारा गजेरा, खुशबू जरीवाला, रोशन कापड़िया, भरत असोदरिया सहित अनेक युवक-युवती शामिल हैं। टीम में नौकरी चाहने वालों और कंपनी के निदेशकों से लेकर गृहिणियां शामिल हैं। सिर्फ सूरत से ही नहीं बल्कि गुरुग्राम, चेन्नई, मुंबई, राजकोट आदि से भी कई शहरों और गांवों के लोग इस ऑनलाइन क्लास में शामिल होते हैं।
पहले लॉकडाउन से शुरू हुआ सफर आज तीसरे बैच तक पहुंच गया है और अब तक 500 से ज्यादा लोग ऑनलाइन क्लास का फायदा उठा चुके हैं। कक्षा का समय प्रात:काल ही रखा जाना चाहिए ताकि किसी को असुविधा न हो। नियमित रूप से होमवर्क की जाँच की जाती है, जहाँ आवश्यक हो, व्यक्तिगत कोचिंग भी प्रदान की जाती है। सारा काम बहुत ही पेशेवर तरीके से निःशुल्क  किया जाता है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें