सूरत : शहर जिले में 6 साल मे अभयम हेल्पलाईन पर मदद के लिए 62921 कोल्स आए

आंतराऱ्लर्ओंराष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर वर्ष २०१५ में के सरकार द्वारा शुरू कि गई अभयम १८१ योजना के ६ साल पुर्ण हुए, सूरत शहर जिले में पिछले ६ सालों के दौरान अभयम हेल्पलाईन पर मदद के लिए ६२९२१ कोल्स आए, यह हेल्पलाईम महिलाओं के लिए काफी मददगार साबित हो रही है

अभयम हेल्पलाईन के ६ साल पुर्ण हुए, १८१ पर मिले लाखो कोल्स
सूरत। महिलाओं को घरेलु हिंसा, शारीर‌िक तथा मानसिक स्वास्थ संबंधित मदद, धोखाधड़ी सहित विभिन्न प्रकार की परेशानी के समय तत्काल बचाव, सलाह और मार्गदर्शन के अलावा महिलालक्षी योजनाओं की जानकारी के लिए महिला हेल्पलाईन 181 लगातार कार्यरत है। वर्ष 2015 से कार्यरत अभयम ने मात्र 6 साल के दौरान 8,25,081 से अधिक महिलाओं को जरूरत अनुसार सलाह, बचाव और मार्गदर्शन प्रदान करके महिलाओं के जीवन में नई आशा जगाई गई। गुजरात सरकार महिला और बाल विकास विभाग, गृह विभाग, राज्य महिला आयोग और जीवीके ईएमआरआई द्वारा संकलित रुप से 8 मार्च 2015 अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के रोज राज्यव्यापी 181 अभयम महिला हेल्पलाईन शुरू की गई थी। 
13345 महिलाओं को तत्काल अभयम द्वारा मदद की गई 
सूरत शहर-जिले में गत 6 सालों को दौरान महिला हेल्पलाईन पर 62,921 जितने कोल्स आए है जिसमें तत्काल परिस्थिति में घटनास्थल पर रेस्क्युवान के साथ काऊन्सीलिंग स्टाफ पहुंचकर 13,345 महिलाओं को त्वरीत मदद पहुंचाई गई है। 
महिलाओं को अभयम १८१ हेल्पलाईन पर अनोखा विश्वास 
जीवीके ईएमआरआई चीफ ओपरेटिंग ऑफिसर जशवंत प्रजापति ने कहा कि अभयम की त्वरीत सेवा से महिलाओं को आपातकाल के समय तत्काल रिस्पोन्स देकर उस परिस्थिति में एक स्वजन की तरह उनके साथ रहकर महिलाओं को जरूरी मदद, सेवा और मार्गदर्शन प्रदान किया जाता है। गुजरात की महिलाओं में 181 अभयम ने अनोखा विश्वास प्रस्थापित करने में कामयाब हुआ है। महिलाओं की सुरक्षा और सशक्त‌िकरण की दिशा में गुजरात श्रेष्ठ गुणवत्ता प्राप्त आदर्श राज्य बना है। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें