सूरतः तूफान से प्रभावित सौराष्ट्र के जरूरतमंद परिवारों को 1000 किट भेजा गया

किट तैयार कर सौराष्ट्र में जरूरतमंदों तक पहुंचाई जा रही है।

जीवनोपयोगी कीट तैयार कर भेज दी गई

तौकते तूफान ने पूरे गुजरात को प्रभावित कर दिया है। एक तरह से पूरे गुजरात में तबाही फैल चुकी है। किसानों और तटीय गांवों को बहुत नुकसान हुआ है। सूरत में रहने वाले सौराष्ट्र के लोग सौराष्ट्र के लोगों की मदद के लिए आगे आए हैं। करुणा गौ सेवा संस्था और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने 1000 किट खाद्यान्न तैयार किया है। ऊना, जाफराबाद जैसे गांवों में भी कई लोगों ने अपना ठिकाना खो चुके है, उन्हें कीट भेज दिया गया है।
सौराष्ट्र में तूफान के कारण लोगों की आजीविका भी चली गई है। तो कुछ जगहों पर तो उन्होंने अपना ठिकाना भी खो दिया है। इससे उनके लिए वर्तमान में जीवन यापन करना मुश्किल हो गया है। चूंकि किसान परिवारों के पास वर्तमान में आय का कोई स्रोत नहीं है, इसलिए यह भी सवाल है कि घर का भरण पोषण कैसे किया जाए। ऐसे  सूरत में रहने वाले व्यापारियों और सामाजिक संगठनों ने एक बार फिर अपने वतन के लोगों की मदद के लिए सेवा शुरू की है। कोरोना के संक्रमण काल ​​में भी सूरत के विभिन्न संस्थानों ने आगे आकर आइसोलेशन सेंटरों के साथ-साथ चिकित्सा सुविधाओं को स्थापित करने का प्रयास किया है।
तूफान के बाद जनजीवन को फिर से शुरू करने के लिए कंधे से कंधा मिलाकर काम करने की जरूरत है। सूरत में विभिन्न संगठनों द्वारा आर्थिक मदद से सौराष्ट्र को अनाज किट वितरित किए जा रहे हैं।  ताकि परिवारों को 20 से 25 दिन तक खाने-पीने की चिंता न हो।
सूरत के सामाजिक संगठनों के मुताबिक अभी इसकी शुरुआत हुई है। अगले एक सप्ताह के भीतर सूरत से सौराष्ट्र तक इस सेवा का विस्तार करने की योजना है। हम लगातार सहायता प्रदान करने की तैयारी कर रहे हैं ताकि किसी को परेशानी न हो।  सरकार को जो मदद करना हो  वह करेगी, लेकिन पहले वह किया जाये जो परिवार को अभी चाहिए। इसे पूरा करने के लिए तमाम संस्थाएं काम कर रही हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें