भारतीय क्रिकेट टीम के विदेशी दौरों की है तैयारी, वैक्सीन लगेगी और क्वारंटाइन भी रहेंगे

प्रतिकात्मक तस्वीर (File Photo)

न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 जून से विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल खेलेगी टीम इंडिया, इसके बाद होगी इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज

कोरोना महामारी के बीचक्रिकेट के पुनरागमन के बाद भारतीय टीम विदेश दौरे के लिए इंग्लैंड जाने वाली हैं। जहाँ टीम इंडिया न्यूजीलैंड के खिलाफ 18 जून से विश्व टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल खेलेगी। वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मैच 18 से 22 जून तक खेला जाएगा। इसके बाद भारतीय टीम इंग्लैंड के खिलाफ पांच मैचों की टेस्ट सीरीज खेलेगी, जिसका पहला मैच 4 अगस्त से नॉटिंघम में खेला जाएगा। वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप का फाइनल मैच पहले लॉर्ड्स के मैदान खेला जाना था, लेकिन कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए इसको साउथैम्पटन में करवाने का फैसला लिया गया।
(Photo : IANS)
ऐसे में टीम इंडिया लगभग साढ़े तीन महीने जितना समय इंग्लैंड में बिताने वाली हैं। भारतीय टीम के इस लंबे कार्यक्रम के कारण दौरे को लेकर भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड और इंग्लैंड एंव वेल्स क्रिकेट बोर्ड साथ मिलकर विशेष व्यवस्थाओं में जुटा है। ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, इंग्लैंड जाने से पहले ही टीम इंडिया भारत में ही क्वारंटीन प्रक्रिया की शुरुआत करेगी और फिर इंग्लैंड पहुंचने पर भी कुछ दिनों का क्वारंटीन होगा। इस दौरे की अवधि को देखते हुए बोर्ड ने खिलाड़ियों को अपने परिवारों को साथ ले जाने की इजाजत दी है। जानकारी के अनुसार टीम इंडिया इंग्लैंड जाने से पहले 8 दिन बायो बबल में रहेगी और फिर इंग्लैंड पहुंचने के बाद 10 दिन क्वारंटीन पीरियड का पालन करना होगा।
भारत के इंग्लैंड दौरे के बारे में बीसीसीआई से मिली जानकारी के अनुसार खिलाडियों का 25 मई से 8 दिन का बायो बबल शुरू होगा। इसमें उनके आवाजाही पर प्रतिबंध रहेगा। इस दौरान खिलाड़यों का कोविड-19 टेस्ट किया जाएगा। 2 जून को टीम ब्रिटेन के लिए रवाना होगी और फिर वहां 10 दिन तक क्वारंटीन रहेगी। एक बायो बबल से दूसरे बबल में जाने की वजह से खिलाडी इस दौरान प्रैक्टिस कर सकेंगे। 10 दिन के क्वारंटीन के बाद 18 जून से न्यूजीलैंड के खिलाफ डब्ल्यूटीसी फाइनल शुरू होगा। इस दौरे की अवधि को देखते हुए बोर्ड ने खिलाड़ियों को अपने परिवारों को साथ ले जाने की इजाजत दी है। हालांकि ये निश्चित नहीं है कि खिलाड़ियों के परिवार शुरू से ही साथ उनके साथ रहेंगे या सिर्फ टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल के बाद साथ रह सकेंगे। टेस्ट चैंपियनशिप के बाद एक महीने से ज्यादा का वक्त खिलाड़ियों के पास रहेगा।
(Photo Credit : Twitter/@BCCI)
वहीं खिलाडियों की वैक्सीनेशन के बारे में बीसीसीआई ने स्पष्टता आने कुछ और समय की बात कही। बीसीसीआई के अनुसार "भारत सरकार ने 18 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए टीकाकरण शुरू कर दिया है और खिलाड़ी भी अपनी पहली डोज ले सकते हैं लेकिन दूसरी डोज को लेकर कुछ अनिश्चितता है। खिलाड़ियों को दूसरी डोज यूके में मिल सके इसका इंतजाम किया जा रहा हैं लेकिन यह कुछ समय बाद ही साफ हो पाएगा।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें