संस्मरण : अभिनेता प्रेम चोपड़ा के साथ फोन पर बात शुरू करते ही वे कहा करती थीं, 'लता... लता मंगेशकर नाम है मेरा!'

स्वर कोकिला लता मंगेशकर अब हमारे बीच नहीं रही हैं। देश दुनिया से उनके लिए श्रद्धांजलि के संदेश आ रहे हैं, लोग अपने संस्मरण बयान कर रहे हैं। इसी क्रम में बॉलीवुड के बीते जमाने के खलनायक प्रेम चोपड़ा ने एक समाचार चैनल को दिए अपने साक्षात्कार के दौरान स्वर कोकिला लता मंगेशकर के साथ बिताए अपने दिनों को याद किया। प्रेम चोपड़ा ने अपनी यादें बयां करते हुए कहा कि जब कभी लता मंगेशकर जी के साथ उनकी फोन पर बात होती थी तो शुरुआत लता मंगेशकर यह कहकर करती थी कि लता... लता मंगेशकर नाम है मेरा। प्रेम चोपड़ा हंसते हुए बताते हैं कि उन्हें भी अपनी बॉबी फिल्म का वह लोकप्रिय डायलॉग सुना कर ही संवाद शुरू करना पड़ता था कि प्रेम.... प्रेम चोपड़ा नाम है मेरा।
प्रेम चोपड़ा ने मीडिया से बात करते हुए लता मंगेशकर जी को एक अद्भुत कलाकार और ह्दयस्पर्शी शख्सियत बताया। उन्होंने कहा कि उनका दिल मानने को तैयार ही नहीं है कि लता जी अब हमारे बीच नहीं है। उन्होंने कहा कि वे अपनी आवाज के बूते सदियों तक अमर रहेंगी। उनका गीत भी तो यही कहता था, ‘मेरी आवाज ही मेरी पहचान है।’ अब इस दुनिया में उनकी आवाज ही उनकी पहचान बन कर रहेगी और लोग उन्हें कभी भूल नहीं पाएंगे।
बता दें कि लता मंगेशकर पिछले कुछ दिनों से बीमार चल रही थी। वे मुंबई की ब्रीच कैंडी अस्पताल में भर्ती थी। वह कोरोना से भी ग्रस्त हुई थी। 1942 में 13 वर्ष की उम्र में उन्होंने गायिका के रूप में अपने करियर की शुरुआत की थी। अब तक भारत की विभिन्न भाषाओं में वे 30,000 से अधिक गाने गा चुकी हैं। देश ने उन्हें सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार भारत रत्न से भी नवाजा है। इसके अलावा उन्हें पद्म भूषण पद्म विभूषण और दादा साहेब फाल्के अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें