एलियांज बीमा पर लगा इतिहास का सबसे बड़ा जुर्माना, भरने होंगे 6 अरब डॉलर

कोरोना महामारी की शुरुआत में सामने आए एक धोखाधड़ी मामले में यूरोपीय बीमा और वित्तीय सेवा प्रदाता आलियांज पर उसकी यूएस एसेट मैनेजमेंट यूनिट पर 6 अरब से अधिक का जुर्माना लगाया गया

ग्राहकों को गुमराह करने और गलत निवेश करने के मामले में दुनिया की शीर्ष बीमा कंपनी पर 6 अरब डॉलर यानी लगभग 46,000 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया गया है, जो इतिहास में किसी भी बीमा कंपनी पर अब तक का सबसे बड़ा जुर्माना है।
जानकारी के लिए बता दें कि कोरोना महामारी की शुरुआत में सामने आए एक धोखाधड़ी मामले में यूरोपीय बीमा और वित्तीय सेवा प्रदाता आलियांज पर उसकी यूएस एसेट मैनेजमेंट यूनिट पर 6 अरब से अधिक का जुर्माना लगाया गया है। एलियांज राजस्व के मामले में दुनिया की चौथी सबसे बड़ी कंपनी है और शुद्ध प्रीमियम के मामले में सातवीं सबसे बड़ी और कुल संपत्ति के मामले में दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी है। ये कंपनी भारत में बजाज कंपनी से संबद्ध है।
अमेरिकी न्याय विभाग और प्रतिभूति और विनिमय आयोग (एसईसी) के साथ एलियांज समझौता कॉर्पोरेट इतिहास में सबसे बड़ा सौदा माना जाता है। एलियांज और उसके तीन पूर्व वरिष्ठ पोर्टफोलियो प्रबंधकों को आरोपित करने वाले एसईसी ने कहा कि एलियांज बड़े पैमाने पर धोखाधड़ी योजना में शामिल था। मार्च 2020 कोरोना महामारी के दौरान एक बाजार दुर्घटना में धोखाधड़ी का पर्दाफाश हुआ था। इस बाजार दुर्घटना में, आलियांज को इस रणनीति में अरबों डॉलर का नुकसान हुआ। संरचित अल्फा निवेश की जोखिम भरी प्रकृति को कम करने के लिए निवेशक दस्तावेजों को फिर से लिखा गया था।
कार्यवाही के बाद, एलियांज यूएस एसेट मैनेजमेंट यूनिट ने मामले को निपटाने के लिए एसईसी को लगभग 1 बिलियन का भुगतान करने और अपनी मूल कंपनी एलियांज के साथ इस धोखाधड़ी के शिकार को 5 बिलियन का भुगतान करने पर सहमति व्यक्त की। एलियंस घोटाले के शिकार कुल 114 संस्थागत निवेशकों में शिक्षकों, पादरियों, बस चालकों और इंजीनियरों के लिए पेंशन फंड शामिल हैं। दिलचस्प बात यह है कि एलियांज ने 2022 की पहली तिमाही में कुल 3.2 बिलियन यूरो का परिचालन लाभ कमाया।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें