सूरत जिले में कोरोना महामारी के दौरान में स्वास्थ सुविधाए सुद्रढ बनाएः कांग्रेस

सूरत ग्रामीण क्षेत्र में स्वास्थ सुविधा बढ़ाने और कोरोना की परिस्थिति से अवगत कराने जिलाधिश को कांग्रेस ने ज्ञापन दिया

सूरत ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना की भयंकर स्थिति से अवगत काराने के लिए कांग्रेस प्रतिनिधि मंडल ने जिला कलेक्टर डॉ.धवल पटेल को ज्ञापन देकर त्वरीत कार्यवाही कि मांग की।

मरीजों को लिए बेड, ऑक्सिजन, वेन्टिलेटर, रेमडेसिविर इंजेक्शन कि कमी दुर करने कांग्रेस ने दिया ज्ञापन
सूरत जिले में कोरोना महामारी का संक्रमण बहुत ही तेजी से बढ़ रहा है। ग्रामीण क्षेत्र में कोरोना के गंभीर मरीज की चिकित्सा के अभाव से मौत हो रही है। कोरोना से मृत्यु का सही आंकडा प्रशासन द्वारा छुपाया जा रहा है। ग्रामीण मरीजों के लिए बेड, ऑक्सिजन, वेन्टिलेटर, रेमडेसिविर इंजेक्शन की सुविधा सुद्रढ करने के लिए कांग्रेस अग्रणीओं ने कलेक्टर डॉ. धवल पटेल को ज्ञापन दिया। 
सूरत जिला कांग्रेस समिति के अग्रणी पुर्व केबिनेट मंत्री डॉ.तुषार चौधरी, सूरत जिला कांग्रेस अध्यक्ष एवं विधायक आनंद चौधरी, सूरत जिला पंचायत के पुर्व विपक्षी नेता एवं किसान अग्रणी दर्शन नायक ने मंगलवार दोपहर को सूरत जिला कलेक्टर डॉ.धवल पटेल को ग्रामीण क्षेत्र में कोविड-19 की परिस्थिति और मरीजों को हो रही मुश्किलों के बारे में ज्ञापन दिया। कांग्रेस प्रतिनिधि मंडलने जिला कलेक्टर से कहा की कोविड अस्पतालों तथा कोविड केर सेन्टरों में कोरोना मरीजों को भर्ती नही किया जा रहा। ग्रामीण क्षेत्र के मरीजो को लेकर स्वरजन सूरत शहर की ओर दौड रहे है तो सूरत शहर के सरकारी सिविल अस्पताल में भी कोरोना मरीजों को भर्ती करने से इंकार किया जा रहा। 
जिले के स्वास्थ विभाग द्वारा कोरोना से मृत्यु के आंकडे देखे तो गांवों में कोरोना की परिस्थिति बहुत ही गंभीर बन चुंकी है मगर प्रशासन उसे गंभीरता से नही ले रहा। ऑक्सिजन और वेन्टिलेटर की जरूरत क्यों बढ़ रही है उसकी सही जानकारी का आकलन किया जाए। 108 इमरजेन्सी की जिम्मेदारी बहुत बढ़ गई है जिले में जिस प्रकार से कॉल आ रहे है उसके सामने 108 एम्ब्युलेन्स की संख्या में तत्काल वृध्दि की जाए। गुजरात सरकार ने हाईकोर्ट में पेश किए हलफनामा में कहा है की मां वात्सल्य कार्ड धारकों को कोरोना की चिकित्सा में समावेश किया है उसके बावजुद निजि अस्पताल मां कार्ड धारकों को भर्ती नही कर रहे। कोरोना की निजि अस्पताल में चिकित्सा ले रहे मरीजों का बिल रिफंड करके जिला स्तर पर बनाई गई मरीज कल्याण समिति जो सुषुप्त अवस्था में है उसे जागृत किया जाए। निजि अस्पतालों को आवंटित रेमडेसिविर इंजेक्शन का ओडिट किया जाए और जिस मरीज के लिए इंजेक्शन आवंटीत किया है उसका जवाब लिया जाए। निजि अस्पतालों द्वारा रेमडेसिविर इंजेक्शन का कालाबजार करने की जानकारी मिल रही उनके सामने कडी कार्यवाही की मांग कांग्रेस के प्रतिनिधियों ने की। सूरत जिले के सभी तहसिलों में कोरोना मरीजो को तत्कास सुविधा मिले इस लिए ग्राम्य क्षेत्र में कोरोना अस्पताल शुरू की जाए। ग्रामीण क्षेत्र के लोगों को कोरोना चिकित्सा सुद्रढ करने के लिए प्रशासन और सरकार जल्द से जल्द उचित कार्यवाही करे ऐसी मांग कांग्रेस के प्रतिनिधियों ने जिला कलेक्टर से की। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें