गुजरात : दीपावली की पूर्व संध्या पर मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने प्रदेश के कैदियों के लिए लिया सराहनीय निर्णय

प्रतिकात्मक तस्वीर (Photo : IANS)

राज्य की जेलों में बंद 120 पुरुषों और 31 महिलाओं समेत 181 कैदियों को मिलेगा लाभ

(Photo Credit : gujaratsamachar.com)
कल धनतेरस के साथ दिवाली पर्व की शुरुआत हो चुकी है। दिवाली एक बहुत ही अहम त्योहार है और हर कोई इसे अपने परिवार के साथ मानना चाहता है। ऐसे में मुख्यमंत्री श्री भूपेंद्र पटेल ने राज्य की जेलों और अन्य गंभीर अपराधों में रहने वाले कैदी अपने घरों और परिवारों के साथ दिवाली मना सकें यह सुनिश्चित करने के लिए एक महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। दरअसल मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने राज्य में कैदियों के जेल सुधार और कल्याण गतिविधियों के तहत यह सुनिश्चित करने के लिए कि इस साल दिवाली के अवसर पर कैदी अपने परिवार के साथ खुशी से दिवाली मना सकें। सशर्त शर्तों पर जमानत देने का फैसला किया है।
आपको बता दें कि मुख्यमंत्री के इस फैसले का लाभ प्रदेश की विभिन्न जेलों में बंद 31 महिला कैदियों के साथ-साथ 60 वर्ष से अधिक उम्र के लगभग 120 पुरुष कैदियों को अपने परिवारों के साथ दिवाली मनाने का लाभ मिलेगा। ऐसा अनुमान है कि लगभग 181 कैदी इस बार अपने परिवार के साथ दिवाली मना सकेंगे। राज्य की जेलों में बंद महिला कैदियों और 60 वर्ष और उससे अधिक उम्र के पुरुष कैदियों को दीवाली के दौरान 15 दिनों की पैरोल मिलेगी। भूपेंद्र पटेल ने बड़ी दिलचस्पी दिखाते हुए कहा कि इस फैसले के बाद गंभीर अपराधों को छोड़कर कैदी घर पर परिवार के साथ दिवाली मना सकते हैं।
बता दें कि इस निर्णय का लाभ विशेष प्रकार के गंभीर अपराधों के अंतर्गत जेल में बंद कैदियों को नहीं मिलेगा। ऐसे अपराधियों में में एन.डी.पी.एस. अधिनियम के तहत अपराध के कैदी, टाडा और पोटा के तहत अपराध के कैदी, उच्च न्यायालय में अपील करने वाले कैदी, एनआरआई कैदी, आतंकवादी गतिविधियों के लिए सजा काट रहे अपराधियों का समावेश होता हैं।

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें