गुजरात : जानें कहाँ से सामने आया गांजे की खेती का बड़ा घोटाला

प्रतिकात्मक तस्वीर

जप्त किया गया 90 किलो का गाँजा, चार महीने पहले किसी अंजान व्यक्ति ने दिये थे गांजे के बीज

गुजरात के सुरेन्द्रनगर जिले में नौजवानों को शराब के नशे में धकेलने के बड़ा कौंभांड सामने आया है। वैसे भी जिले में शराब और नशीले पदार्थों की बिक्री सामान्य हो गया है। ऐसे में चोटिला के नाना कांधासर गाँव में गैरकानूनी गांजे की खेती का मामला सामने आया है। जिसकी जानकारी जब पुलिस को मिली तो उन्होंने छापा मारकर लगभग 90 किलो गाँजा जप्त किया था। 
सुरेन्द्रनगर जिले में पहले भी चोटिला तहसील के कई गाँव जैसे की राजपरा, खेरडी, भीमोर, जैसे गांवों में पहलाए में भी गांजे की गैरकानूनी खेती पकड़ी गई है। कई असामाजिक तत्वों द्वारा गाने की खेती कर नौजवानों को बड़ी कीमत में देकर उन्हें नशे के जाल में फेंकते थे। यह इलाके काफी पथरीले होते थे, जिसके चलते पुलिस भी उन इलाको में पहुँचने में असफल रहती थी। 
इस बार भी आरोपी रमेशभाई ने अपनी खेत में बैंगन के पौधों के बीच गांजे की खेती की थी। जिससे की किसी को इसके बारे में जानकरी ना हो। पर आखिरकार इसकी जानकारी SOG पुलिस को मिली थी। जिसके बाद पुलिस ने गाँव पहुँच कर खेत में छापा मारा था और बैंगन के खेत के बीच गैरकानूनी गांजे की खेती की थी। पुलिस ने इस दौरान पौधों के सहित कुल 104 किलों का गाँजा पकड़ा था। जिसकी कीमत लगभग 7.26 लाख रुपए थी।
पुलिस द्वारा इस बार में पूछताछ कर ने पर आरोपी ने कहा कि करीब चार महीने पहले उसे किसी ने गांजे के बीज दिये थे। जिसकी खेती उसने शुरू कि थी। इन सभी में से उसने कई सारे पौधे नशा करने वाले लोगों को बैच दिये थे।  आरोपी को हिरासत में लेकर उसे चोटिला पुलिस के हवाले किया गया है और फिलहाल उसकी पूछताछ चल रही है कि आखिर कितने समय से वह गंजे कि खेती कर रहा था और कौन कौन उसे इस काम में सहायता करता था। 

इन टॉपिक्स पर और पढ़ें:


ये भी पढ़ें